क्या आप जानते हैं कि नींद की कमी से भी होती है याददाश्त कमजोर ?

हम भाग-दौड़ में काफी अहम चीजों को कमजोर याददाश्त के कारण भूल जाते हैं। शोधकर्ताओं के अनुसार एक अच्छी नींद ही तेज दिमाग की चाबी है। उनका कहना है कि अच्छी नींद लेने के बाद हम उन बातों को याद पाते है जो हम कभी-कभार जागते हुए भी याद नहीं रख पाते हैं। अच्छी नींद से हमारी याददाश्त भी तेज़ होती हैं।

अच्छी नींद से याददाश्त को बरकरार रखने ऊर्जा मिलती है। कुछ बातें सारी रात नींद के दौरान और भी तेज याद रहती है। यह इस धारणा का समर्थन करता है कि सोते हुए हमारा मष्तिक्ष महत्वपूर्ण जानकारियों का अभ्यास करता हैं। जहां एक स्थिति में लोग 12 घंटे तक जागने की वजह से कुछ बातें भूल जाते हैं, वहीं दूसरी स्थिति में रातभर की नींद से हम उन बातों को आसानी से याद कर पाते हैं, जिन्हें शुरुआती तौर में जागते हुए याद करने में एक हफ्ते का समय लगता है।

डॉक्टरों के मुताबिक मस्तिष्क में टेम्पोरल लोब की एक आंतरिक संरचना हिप्पोकैम्पस के ही वजह से याददाश्त को बनाए रखने में ओर बढ़ावा मिलता है, यह इंसान के मस्तिष्क में दबी हुई बातों को बाहर निकालता है और उन्हें मूल रूप से दिमाग के उसी छिपे हुए स्थान पर फिर से रीप्ले करता है।इस रीप्ले की वजह से हम दिनभर में हुए महत्वपूर्ण अनुभवों को अपने मस्तिष्क में जीवित रख पाते हैं। शोध के दौरान टीम ने उपन्यास के पढ़े गए शब्दों को दोहराया, जो उन्होंने या तो नींद से पहले अध्ययन किया था। इसके बाद जब उनसे दोनों स्थितियों के दौरान अध्ययन की गई चीजों को दोहराने के लिए कहा गया तो इससे ये तथ्य सामने आया कि जागते रहने की तुलना में इंसान नींद के दौरान अध्ययन की गई चीजों को दोहराने में ज्यादा सक्षम होता है। अंत में यही निष्कर्ष निकला कि नींद न सिर्फ याददाश्त को बनाए रखने में मदद करती है, बल्कि उसे बेहतर तरीके से दोहराए जाने में भी मदद करती है।

यह भी पढ़ें:

एल्युमिनियम फॉयल में पैक खाना बनता है इन गंभीर बीमारियों का कारण!

कमर दर्द से हैं परेशान, तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खे

Loading...