क्या आप जानते हैं कौन सा तेल है सेहत के लिए बेस्ट

हम सभी जानते है की अगर खाना अच्छे ऑइल में पके तो स्वाद के साथ साथ सेहत भी अच्छी रहती है।

ऑलिव ऑयल
हार्ट फ्रेंडली तत्वों के कारण यह न स़िर्फ आपके डायट में पोषण का इज़ाफ़ा करता है, बल्कि कार्डियोवैस्कुलर डिसीज़ और कैंसर जैसे गंभीर रोगों के पनपने के ख़तरे को भी कम करता है। यह मोनोअनसैचुरेटेड फैट्स से भरपूर होता है। इसमें फाइटोकेमिकल्स होते हैं, जो कोलेस्ट्रॉल को कम करते हैं और कैंसर के ख़तरे को भी कम करने में मददगार होते हैं। यह एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है। इसकी स्टोरेज लाइफ़ अधिक होती है। इसे फ्रीज़ भी किया जा सकता है।

सोयाबीन ऑयल
सोयाबीन वेजीटेबल ऑयल है, जो ओमेगा3 से भरपूर होता है। यह विटामिन ई का बहुत अच्छा स्रोत है। पॉली अनसैचुरेटेड फैटी एसिड्स की काफ़ी मात्रा भी पाई जाती है।

सनफ्लावर ऑयल
इसके लाइट टेस्ट की वजह से बहुत-से शेफ इसे ही यूज़ करते हैं। इसे डीप फ्राई के लिए भी यूज़ किया जा सकता है। सनफ्लावर ऑयल विटामिन ई से भरपूर होता है। यह कैंसर, इंफेक्शन्स और कई बीमारियों से बचाव करता है।

कनोला ऑयल
यह न्यूट्रिशनिस्ट का फेवरेट है और फिज़िशियन्स भी इसे रिकमेंड करते हैं, क्योंकि इसमें हृदय रोग के ख़तरों को कम करने के गुण हैं। इसमें सैचुरेटेड फैट्स बहुत ही कम होता है। यह मोनोअनसैचुरेटेड फैट्स से भरपूर है। ओमेगा3 फैटी एसिड भरपूर मात्रा में मौजूद है। अन्य तेलों के मुक़ाबले इसमें फैटी एसिड का कंपोज़िशन सबसे अच्छा और हेल्दी है।

नारियल का तेल
रिसर्च बताते हैं कि कोकोनट ऑयल से पाचन तंत्र और रोग प्रतिरोधक क्षमता मज़बूत होती है.यह स्किन के लिए भी काफ़ी फ़ायदेमंद होता है। इसके एंटीएजिंग प्रभाव को भी सभी जानते हैं।

सरसों का तेल
इसके एंटीसेप्टिक गुणों के कारण यह गले की तकलीफ़, दमा, ब्रॉन्काइटिस और निमोनिया जैसे रोगों से बचाव का काम करता है। इसके स्ट्रॉन्ग फ्लेवर पाचन शक्ति को बढ़ाकर भूख बढ़ाता है।