आलोचना के बाद भी हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा का बचाव कर रहे डोनाल्ड ट्रंप, कह दी ये बड़ी बात

भारत द्वारा निर्यात की गई हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा पर राष्ट्रपति डोन्लड ट्रंप ने रक्षात्मक रवैया अपनाया है। उन्होंने मलेरिया के इलाज में कारगर होने वाली इस दवा को कोरोना के इलाज में भी सहायक बताया था। जिसके बाद भारत ने काफी मात्रा में यह दवा अमेरिका को दी। लेकिन अमेरिकी डॉक्टर्स ने इस दवा को कोरोना के इलाज में बेकार बताते हुए इसकी आलोचना की। लेकिन ट्रंप ने आलोचनाओं का जवाब देते हुए इसे कोरोना से बचाव का उपाय बताया है।

ट्रंप ने खुलासा किया था कि वह जानलेवा कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए इस दवा को ले रहे है। इसके एक दिन बाद उन्होंने व्हाइट हाउस में पत्रकारों से कहा कि उन्हें लगता है कोरोना से बचाव के लिए यह दवा कारगर है और मैं इसे लेता रहूंगा। यह काफी सुरक्षित लगती है। ट्रंप ने कहा कि इस दवा की खराब छवि बनाने के पीछे का कारण उनका इस दवा के लिए प्रचार करना था। ट्रंप ने कहा वह खराब प्रचारक है लेकिन कोई और ऐसा करता तो यह अच्छी होती।

हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा के संदर्भ में बोलते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि यह आपको नुकसान नहीं पहुंचाती है और मुझ पर भी इसका कोई खराब असर नहीं हुआ। ट्रंप ने कहा कि दुनियाभर के डॉक्टर्स ने इस दवा पर अच्छी-अच्छी प्रतिक्रियाएं दी है। इटली, फ्रांस और स्पेन जैसे देशों में इसके अध्यन के बाद अमेरिका में भी अब चिकित्सक इसे लेकर काफी आशावान हैं। ट्रंप ने कहा कि इस दवा को बहुत बीमार को देने की वजह से गलत परिणाम सामने आये।

यह भी पढ़े: भारत में कोरोना का अब तक का सबसे बड़ा विस्फोट, एक दिन में 5611 नए केस और 140 मौतें
यह भी पढ़े: ईपीएल: एक साल तक जारी रह सकती है कोरोना वायरस से जुड़ी पाबंदियां

Loading...