पीएं मटके का पानी, घुटने से लेकर पेट तक की परेशानियों का इलाज

पहले जमाने में फ्रिज नहीं हुआ करता था तो गर्मी में लोग पानी को ठंडा करने के लिये मिट्टी के मटके सुराही का ही इस्तेमाल करते थे। आजकल ठंडे पानी के लिेय फ्रिज का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन बहुत ज़्यादा ठंडा होने के कारण यह गले और शरीर के अंगो को एक दम से ठंडा कर शरीर पर बुरा प्रभाव डालता है। इससे गले की कोशिकाओं का ताप अचानक गिर जाता है, जिस कारण व्याधियां उत्पन्न होती है।

मटके का पानी अमृत है

ऐसे में आज भी कई लोग फ्रिज के बजाय मटके के पानी को ही पीते हैं। क्योंकि मटके और सुराही का पानी पीने में जो आनंद आता है वो फ्रीज़ के ठंडे पानी में कहाँ। मटके का पानी गर्मियों में केवल आनंद ही नहीं देता, इसके अलावा भी इसके कई सारे फायदे हैं जो आज हम आपको बताने जा रहे हैं।

प्रतिरक्षा क्षमता

इसमें मिट्‌टी के गुण भी होते हैं जो पानी की अशुद्ध‍ियों को दूर करते हैं और लाभकारी मिनरल्स प्रदान करते हैं। शरीर को टॉक्सिन से मुक्त कर बॉडी की इम्यूनिटी को बढ़ाते हैं।

ब्लडप्रेशर

मटके का पानी ब्लड प्रेशर को भी नियंत्रित रखने में आपकी मदद करता है। यह बैड कॉलेस्ट्रोल की मात्रा को कम करता है और हार्ट अटैक की संभावनाओं को भी कम कर देता है।

गले के लिये

फ्र‍िज के पानी की अपेक्षा यह अधिक फायदेमंद है क्योंकि इसे पीने से कब्ज और गला खराब होने जसी समस्याएं नहीं होती। इसके अलावा यह सही मायने में शरीर को ठंडक देता है।

आर्थराइटिस बीमारी

मिट्टी में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होने के कारण यह शरीर में दर्द, ऐठन या सूजन जैसी समस्या को नहीं होने देता। इतना ही नहीं, यह आर्थराइटिस बीमारी में भी बेहद लाभकारी माना जाता है।

दमा रोग के लिये

मटके का पानी लकवे और दमे के पेशेंट्स के लिए फायदेमंद है। इससे हार्ट भी हेल्दी रहता है।

डायरिया

मिट्टी के बर्तन में रखा पानी बिल्कुल शुद्ध होता है। यह उन सब बैक्टीरिया को खत्म कर देता है जो डायरिया, पीलिया और डीसेंट्री जैसी बीमारियों को जन्म देता है।

त्वचा संबंधी

मिट्टी के बर्तन में रखा पानी पीने से त्वचा संबंधित कई परेशानियां दूर हो जाती हैं। यह फोड़े, फुंसी, मुंहासे और त्वचा से संबंधित अन्य रोगों को होने नहीं देता। इसमें रखा पानी पीने से आपकी त्वचा दमकने लगती है।

पाचन क्रिया

पेट से संबंधित बीमारियों के लिए भी मटके का पानी बहुत फ़ायदेमंद होता है। इसका नियमित उपयोग पेट दर्द, गैस, एसिडिटी और कब्ज़ जैसी समस्याओं से छुटकारा दिला सकता है।

एनीमिया रोग

एनीमिया की बीमारी से जूझ रहे व्यक्तियों के लिए मिट्टी के बर्तन में रखा पानी पीना वरदान साबित हो सकता है। मिट्टी में आयरन भरपूर मात्रा में मौजूद होता है। हम आपको बता दें कि एनीमिया आयरन की कमी से होने वाली एक बीमारी है।

यह भी पढ़ें-

जानिए कुछ नुस्खे, प्राइवेट पार्ट की खुजली को दूर करने के लिए