Breaking News
Home / दुनिया / नहीं मिलता इतने लाख लोगों को स्वच्छ पानी, हैरान कर देंगे आंकड़े

नहीं मिलता इतने लाख लोगों को स्वच्छ पानी, हैरान कर देंगे आंकड़े

नई वैश्विक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत के ग्रामीण इलाकों में रहने वाले छह करोड़ 30 लाख लोगों को अभी तक स्वच्छ पानी नहीं मिल पा रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक भारत में यह संख्या सबसे अधिक है। विश्व भर के पानी के बारे में जारी एक रिपोर्ट ‘वाइल्ड वाटर’ में कहा गया है कि यह आबादी लगभग ब्रिटेन की आबादी के लगभग बराबर की है। वाटर ऐड की रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार के नियोजन के अभाव, बढ़ती जरूरतों, जनसंख्या वृद्धि और पानी सुखा देने वाले कृषि कार्यों के कारण पानी पर इसका प्रभाव भी पड़ रहा है।

इसमें बताया गया है कि भारत के ग्रामीण इलाकों में लगभग छह करोड़ 30 लाख लोग स्वच्छ पानी से दूर हैं। इसके कारण हैजा, मलेरिया, डेंगू जैसी आम बीमारियां और कुपोषण के और अधिक पनपने की संभावना भी है। रिपोर्ट में चेतावनी देते हुए कहा गया है कि खेती पर आधारित गांव में रहने वाले लोगों को बढ़ते तापमान के बीच खाद्यान्न उगाने और पशुओं का चारा जुटाने के लिए बहुत संघर्ष भी करना होगा। साथ ही पानी लाने की जिम्मेदारी का निर्वहन करने वाली महिलाओं को लंबे शुष्क मौसम के दौरान जल के लिए बहुत अधिक दूरी तय करनी पड़ेगी।

भारत को विश्व की सबसे तेजी से बढ़ती हुयी अर्थव्यवस्था में से एक बताते हुए इसमें कहा गया है कि देश के समक्ष मुख्य चुनौतियों में से एक चुनौती बढ़ती हुई आबादी के लिए जल सुरक्षा सुनिश्चित करना भी है। भारत के आधिकारिक भूजल संसाधन आकलन के मुताबिक, देश के भूजल के छठे हिस्से से अधिक का इस समय अत्यधिक उपयोग किया जा रहा है। इसमें कहा गया है, ‘उत्तर-मध्य भारत के बुंदेलखंड इलाके में सूखा एक तरह से जीवन का एक अंग भी बन गया है। यहां लगातार तीन बार पड़े सूखे के कारण लाखों लोग भूख और गरीबी के दुष्चक्र में बुरी तरह फंस गये।

पूरी दुनिया में विश्व जल दिवस को 22 मार्च को मनाया जाता है। साल 1993 में संयुक्त राष्ट्र की सामान्य सभा के द्वारा इस दिन को एक वार्षिक कार्यक्रम के रुप में मनाने का निर्णय भी किया गया। लोगों के बीच जल का महत्व, आवश्यकता और संरक्षण के बारे में जागरुकता बढ़ाने के लिये हर वर्ष 22 मार्च को विश्व जल दिवस के रुप में मनाने के लिये इस अभियान की घोषणा भी की गयी थी।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *