बीपी और डायबिटीज को काबू करने में रामबाण है सहजन का जूस, जानिये- इस्तेमाल का तरीका

कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है, ऐसे में लोगों को सावधानी बरतने की खास जरूरत है। पहले से किसी बीमारी से पीड़ित लोगों को इस वायरस से ज्यादा खतरा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के डायरेक्टर जनरल ने भी हाई बीपी और हाई ब्लड शुगर के मरीजों को ज्यादा सतर्क रहने की सलाह दी है। ऐसे में हृदय रोगी और मधुमेह से पीड़ित रोगियों को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए और अपनी सेहत का विशेष ध्यान रखना चाहिए। ये मरीज खुद को स्वस्थ रखने के लिए कई घरेलू उपायों का इस्तेमाल कर सकते हैं। ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में सहजन के पत्तों से बना जूस बेहद कारगर होता है। इसके अलावा, दिल को तंदरुस्त रखने में भी ये पत्ते असरदार होते हैं। आइए जानते हैं सहजन के पत्तों के फायदे और क्या है जूस बनाने का तरीका-

कैसे है डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद: सहजन में मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट्स क्लोरोजेनिक एसिड से भरपूर होते हैं, ये एसिड ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित रखता है। इसके अलावा, सहजन के पत्तों में राइबोफ्लेविन पाया जाता है जो कि हाई ब्‍लड शुगर के स्‍तर को कंट्रोल करने में मदद करता है। इस तरह से वह डायबिटीज के लक्षणों का प्रभावी ढंग से इलाज करता है। इसके अलावा, ये विटामिन सी का भी अच्छा स्रोत माना जाता है। इसके सेवन से डायबिटीज के मरीजों की इम्यूनिटी मजबूत होती है। वहीं, सहजन में एंटी-फंगल और एंटी-इंफ्लामेट्री गुण होते हैं जो डायबिटिक लोगों को इंफेक्शन और सूजन से बचाते हैं।

हार्ट पेशेंट्स के लिए रामबाण है सहजन: सहजन के पत्तों में आइसोथियोसाइनेट ( Isothiocyanate) और नियाजिमिनिन ( Niaziminin) नाम के तत्व पाए जाते हैं जो आर्टरीज को मोटा होने से रोकने में मदद करते हैं। आर्टरीज थिकनिंग या इनका मोटा होना हाई ब्लड प्रेशर का एक लक्षण है। इसके अलावा, सहजन में कैलोरीज की मात्रा भी बेहद कम होती है जिससे वजन आसानी से नहीं बढ़ता। वहीं, ये एंटी-डिप्रेसेंट गुणों से भरपूर होते हैं और और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस से लड़ने में भी कारगर होते हैं। बता दें कि मोटापा और स्ट्रेस हृदय रोग होने के सबसे प्रमुख कारणों में से एक है।

ऐसे बनाएं सहजन का जूस: भारत के कई हिस्सों में सहजन की खेती होती है। वैसे तो ये मौसमी सब्जी है लेकिन दक्षिण भारत में इसका इस्तेमाल हमेशा किया जाता है। सहजन का जूस बनाने के लिए आपको चाहिए कुछ ताजे सहजन, अब उसे कुछ देर धूप में सुखाएं। जब सहजन पूरी तरह ड्राय हो जाए तो मिक्सर ग्राइंडर में पीसकर इसका पाउडर बना लें। रोजाना सुबह उठने के साथ एक बर्तन में थोड़ा पानी लें और उसमें पाउडर मिलाकर कुछ मिनटों तक उबालें और फिर गर्म-गर्म पीयें। इसके अलावा, आप सहजन की पत्तियों को सब्जी या सांभर में डालकर भी खा सकते हैं।

यह भी पढ़े-

फैटी लिवर को कम करने में मददगार है कॉफी, इन चीजों को खाने से भी होगा फायदा