बदलते लाइफस्टाइल के कारण बहुत जरूरी बच्चों का पढ़ाई के साथ खेलना

पहले कहा जाता था कि पढ़ोगे लिखोगे बनोगे नवाब, खेलोगे कूदोगे बनोगे खराब। लेकिन अब यह जुमला पूरी तरह लागू नहीं होता क्यूंकि आजकल बच्चों का लाइफस्टाइल जैसा है उसे देखते हुए यह कहना पड़ेगा की उनके लिए खेलना भी बहुत जरूरी है।

जानते हैं बच्चों की फिजिकल एक्टिविटी की महत्ता के बारे में-

  • जब बच्चे दूसरे बच्चों के साथ खेलते हैं तो उनका सामाजिक विकास हैं। यह इसलिए भी जरुरी हैं क्यूंकि आजकल नुक्लेअर फॅमिली कल्चर के कारण उन्हें समाज में रहना नहीं आता है। खेलने से बच्चो को शेयर करना, टीम में काम करना व हार को भी अपनाना आ जाता है।
  • बच्चे के शारीरिक विकास के लिए भी उनका खेलना बहुत आवश्यक है। बड़ी संख्या में बच्चे मोटापे से ग्रसित हैं। ऐसे में फिजिकल गेम्स उन्हें हेल्दी बनाते हैं।
  • फिजिकली रूप से एक्टिव होने पर उनके अंदर हैप्पी हार्मोन्स ज्यादा बनते हैं, जिसके कारण बच्चा खुश रहता है। यह बच्चे के मानसिक विकास के लिए भी आवश्यक है।
  • फिजिकल एक्टिविटी बच्चों की अतिरिक्त एनर्जी को भी बैलेंस करने में मदद करता है, जिससे बच्चे काफी रिलैक्स महसूस करते हैं और उनकी एकाग्रता भी बढ़ती है।