हरा,पीला नहीं बल्कि सड़ा हुआ केला खाएं और सेहत बनाएं,ये हैं शानदार फायदे…

आमतौर पर केला एक ऐसा फल है जिसे बच्चे से लेकर बूढ़े तक सभी वर्ग के लोग बड़े चाव से खाते हैं। केले में पोटैशियम और विटामिन भरपूर मात्रा में होती है। केला खाने से आपको तुरंत एनर्जी मिलती है, अगर आप रोजाना केला खाते हैं तो हार्ट अटैक की संभावना बेहत कम हो जाती है। आमतौर पर जब केले का रंग भूरा हो जाता है तो हम लोग उसे सड़े की श्रेणी में रख देते हैं और उसे खाने से बचते हैं।  लेकिन आज हम आपको सड़े हुए केले के फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं जिसको सुनकर आप फेंकने तो भूल ही जाएंगे।

किस रंग का केला आपके लिए होता है फायदेमंद ?

आमतौर पर केला पहले कच्चा यानि हरे रंग का होता है जिसकी आप सब्जी बनाकर खाते हैं।  फिर केला पीले रंग का होता है जिसको आप फल के रूप में खाते हैं और तीसरी स्टेज में इसके छिलके पर भूरे-भूरे रंग के धब्बे बन जाते हैं।  अगर इस दौरान भी इसे खाने में नहीं इस्तेमाल किया गया तो यह ज्यादा पक कर सड़ने लगता है।  सड़ने के दौरान इसके छिलके का रंग पूरी तरह भूरा हो जाता है।

सड़े केले के अनेक फायदे

हालहि में IFAD ने सड़े हुए केले के चमत्कारी गुणों के बारे में बताया है।  सड़े हुए केले में ट्रिप्टोफैन (Tryptophan) की बहुत मात्रा होती है।  यह स्ट्रेस और एंजायटी को कम करता है।  इसके अलावा इसमें पोषक तत्वों का भंडार होता है।  इसलिए, सड़े हुए केले का इस्तेमाल ब्रेड बनाने के लिए, या फिर मिल्कशेक बनाने के लिए किया जा सकता है।

सिर्फ व्रत ही नहीं, अन्य दिनों में भी खाएं साबूदाना