श्रमिकों को रोजगार दिलाने का प्रभावी मंच बना रोजगार सेतु पोर्टल: शिवराज सिंह चौहान

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि रोजगार सेतु पोर्टल प्रवासी श्रमिकों एवं अन्य श्रमिकों को उनकी दक्षता एवं कौशल के अनुसार रोजगार दिलवाने के लिए एक प्रभावी मंच का कार्य कर रहा है। पोर्टल के लॉन्च होने के 3 दिन के अंदर ही 302 प्रवासी श्रमिकों को नियुक्ति आदेश जारी कर दिए गए हैं। इसके साथ ही 1282 प्रवासी श्रमिकों को रोजगार दिलाने की प्रक्रिया जारी है।

रोजगार सेतु पोर्टल पर 10,000 से अधिक नियोक्ता पंजीकृत हो गए हैं। इनमें सूक्ष्म लघु मध्यम उद्योग, कारखाना, व्यवसायिक प्रतिष्ठान, संस्थाएं, ठेकेदार, बिल्डर, भवन निर्माता, दुकानदार, प्लेसमेंट एजेंसी आदि शामिल है। नियोक्ता अपने उद्यम /व्यवसाय की आवश्यकता अनुसार पोर्टल से श्रमिकों का चयन कर उन्हें नियुक्ति पत्र ऑनलाइन प्रदान कर रहे हैं।

रोजगार सेतु पोर्टल पर 7 लाख 30 हजार 311 प्रवासी श्रमिकों तथा 5 लाख 79 हजार 879 उनके परिवार के सदस्यों का, इस प्रकार कुल 13 लाख 10 हजार 186 का पंजीयन किया जा चुका है। पोर्टल में 3 लाख 24 हज़ार 715 संबल योजना के हितग्राही पंजीकृत हुए हैं। वही 15 हज़ार 722 भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार मंडल के श्रमिकों का पंजीयन किया गया है। आत्मनिर्भर भारत योजना के अंतर्गत लाभान्वित प्रवासी श्रमिक परिवारों के सदस्यों की संख्या 13 लाख 10 हज़ार 186 है, सभी को निशुल्क राशन प्रदाय किया जा रहा है।

रोजगार सेतु पोर्टल के माध्यम से 28 मजदूरों को एग्रो प्रोसेसिंग, 7 मजदूरों को केन एवं बाँस उद्योग, 4 को कम्प्यूटर ऑपरेटर, 3 कारपेन्टर, 5 को ड्रायवर-सह-मैकेनिक, 3 को बिल्डिंग मेंटेनेंस, 3 को मशीनिस्ट, 2 को कारीगर, 4 को इलेक्ट्रिशियन, 2 को सर्वेयर, 10 हाउस कीपर तथा एक-एक मजदूरों को केटरिंग सहायक, कम्प्यूटर हार्डवेयर, पत्थर मशीन ऑपरेटर, प्रयोगशाला सहायक, प्लम्बर, फोटोग्राफर, बेकर, ट्रेक्टर मैकेनिक, मशीन टूल्स मेंटेनेन्स, एचआर एक्जीक्युटिव, बेल्डर की नियुक्ति प्राप्त हुई है। इसके अलावा 202 को मजदूरी कार्य तथा 18 मजदूरों को अन्य कार्य में रोजगार मिला है।

यह भी पढ़ें:

जुआ खेलने के आरोपी गधे को पाकिस्तान में मिली जमानत, चार दिन खानी पड़ी हवालात की हवा

लगातार बढ़ते जा रहे हैं लव जिहाद के मामले, दबाव बनाकर किया जा रहा है मतांतरण और देहशोषण