अंडे की गिरी आती है इस काम, एलर्जी की बीमारी से भी दिलाती है आराम

आपको यह जानकर बहुत हैरानी होगी कि पका हुआ अंडा खाने से आपको कईं तरह की परेशानी हो सकती है। इसलिए बेहतर होगा कि आप अपने खाने में कच्चे अंडे का इस्तेमाल अवश्य करें।

हर खाद्य पदार्थ की ही तरह पकाया गया अंडा भी कुछ पोषण खो देता है। अगर आप कच्चाी अंडा खाते हैं तो आपको उसमें मौजूद विटामिन डी, ओमेगा 3, बायोटिन, जिंक, प्रोटीन, कोलेस्ट्रॉल और अन्य. पोषक तत्वा मिलेंगे, जो पकाए गए अंडे में बहुत कम हो जाते हैं।

अगर आप कच्चे अंडे को डायरेक्ट नहीं खा सकते हैं तो, उसे किसी स्मू्दी में मिक्सल कर लें। कच्चे अंडे को फोड़ने से पहले उन्हें अच्छी प्रकार साबुन के पानी से धोना ना भूलें। इन्हें धोने से इनके छिलकों पर मौजूद साल्मोनेला बैक्टीनरिया साफ हो जाएगा, जिससे संक्रमण का खतरा पूरी तरह ख़त्म हो जाएगा।

कई लोगों को कच्चा अंडा इसलिये खाने में डर लगता है कि कहीं उसमें मौजूद बैक्टीहरिया उन्हें बीमार न कर दे। इसलिये हम आपको एक सीमा में रह कर कच्चा अंडा खाने की हिदायत देंगे। आइये जानते हैं कच्चे अंडे में कितना पोषण छुपा हुआ है…

पकाए हुए अंडे में मौजूदा फैट और प्रोटीन की रचना बदल जाती है। जब प्रोटीन आंच के संपर्क में आता है तब, उससे एलर्जी पैदा होने की संभावना रहती है। वे लोग जिन्होीने कुछ दिनों तक पके अंडे के बजाए कच्चा अंडा खाना शुरु किया, उनमें एलर्जी की बीमारी बिल्कुहल गायब हो गई।

कच्चे अंडे में आपको जरुरी पोषक तत्व, विटामिन्सई जैसे विटामिन B12 मिल सकता है। एक अंडे में 0.2 मिलीग्राम राइबोफ्लेविन या विटामिन B12, प्राप्त हो सकता है। यह शरीर में कार्बोहाइड्रेट्स, प्रोटीन और वसा को ब्रेक डाउन करने के काम आता है। अंडे के कच्चे पीले भाग को खाने एनीमिया की बीमारी दूर होती है तथा दिमाग तेज बनता है।