हद से ज्यादा चिकन खाना दे सकता है नुकसान, हो सकती है ये गंभीर बीमारी

आज के समय में कई लोग मांसाहारी खाने के शौकीन होते है। कुछ तो इसको फैशन के साथ जोडक़र देखते है और कई लोग इसको आदतन खाते है। कहा जाता है कि इसमें पोषक तत्व होते हैं जो सेहत के लिए बहुत जरूरी हैं। मछली, मटन तो ठीक है लेकिन मुर्गे का चिकन खाने से शरीर को कई बीमारियां लगने का डर रहता है। दुकानदार इन जानवरों को जल्दी बड़ा करने के लिए ओक्सिटोसिन के इंजेक्शन देते हैं जिससे इनके मांस को खाने से लोगों की सेहत पर बुरा असर होता है।

खासकर इसके सेवन से महिलाओं और पुरूषों में फर्टिलिटी की समस्या हो जाती है जिस वजह से उन्हें मां-बाप बनने में काफी परेशानी होती है। इसके अन्य और भी कई कारण हैं जिस वजह से चिकन नहीं खाना चाहिए।

अधिकतर दुकानों में जानवरों को बेचने के लिए जिस स्थान का इस्तेमाल किया जाता है वहां पर ढेर सारी मुर्गियों होती है वहां पर उनका सांस लेना भी मुश्किल होता है। इन जगहों पर मुर्गियों को चलने-फिरने में भी काफी परेशानी होती है।

जिस वजह से वे कई प्रकार की बीमारियों से ग्रस्त होते हैं। इन बीमार मुर्गियों के अंडे और मांस खाने से शरीर में भी बैक्टीरिया उपस्थित हो जाते हैं जिससे कई तरह की बीमारियां हो जाती हैं।

महिलाओं में फर्टिलिटी की समस्या : जो महिलाएं चिकन का अधिक सेवन करती हैं उनमें मां बनने की संभावना कम हो जाती है। इसके सेवन से शरीर में ओक्सिटोसिन की मात्रा बढऩे लगती है जिससे महिलाओं का डीनए और हार्मोंस असंतुलित हो जाते हैं जिससे फर्टिलिटी की समस्या हो जाती है।

पुरूषों में समस्या : इस वजह से पुरूषों में भी फर्टिलिटी की समस्या देखने को मिलती है। ज्यादा चिकन खाने से उनमें शुक्राणुओं की कमी हो जाती है जिससे पुरूष बाप बनने में असमर्थ हो जाते हैं।

ये करे उपाय : शरीर में होनें वाली इन बीमारियों से बचने के लिए मुर्गे का चिकन खाना छोड़ देना चाहिए। इसकी बजाए मछली या बकरे का मीट खाना फायदेमंद है।

जो लोग सिर्फ मुर्गे का चिकन ही खाते हैं वह आर्गेनिक पॉल्ट्री फॉर्म से ही इस खरीदें। इसके साथ अधिक मात्रा में फल-सब्जियां भी खाएं और व्यायाम करें।