Breaking News
Home / लाइफस्टाइल / चेहरे के निशानों को कम करने के लिए करें खीरे का इस्तेमाल

चेहरे के निशानों को कम करने के लिए करें खीरे का इस्तेमाल

दुनिया में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा, जो कभी चोटिल न हुआ हो। समय के साथ घाव तो भर जाते हैं लेकिन उनके निशान कभी नहीं जाते। कुछ लोग तो निशान को हटाने के लिए लेजर ट्रीटमेंट से लेकर सर्जरी आदि का भी इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन अगर आप घर पर ही इन निशानों को हटाने के लिए कुछ उपचार करना चाहते हैं तो आप कुछ प्राकृतिक तरीके अपना सकते हैं। आईए जानते हैं इसके बारे में-

नींबू की मदद

Loading...

छोटे से नींबू में बड़े ही काम के गुण होते हैं। खासतौर से, यह एक नेचुरल ब्लीचिंग एजेंट होता है। इतना ही नहीं, यह घाव के निशान को भी हटाने में कारगर होता है। इसके अलावा नींबू डेड स्किन सेल्स को भी हटाता है और नए स्किन के विकास को बढ़ावा देता है। घाव के निशान को कम करने के लिए रूई को नींबू के रस में डुबा लें और निशान पर रगड़ें। एक सप्ताह तक रोज ऐसा करें। आपको अच्छा खासा फर्क नजर आने लगेगा। नींबू की तरह ही आप टमाटर और आलू का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

शहद का इस्तेमाल

वैसे नींबू के अतिरिक्त घाव के निशान को प्राकृतिक रूप से कम करने के लिए शहद की मदद ली जा सकती है। घाव के निशान दरअसल डेड स्किन सेल्स और टिशू होते हैं। शहद नए स्किन टिशू का विकास कर निशान को कम करता है। इसके इस्तेमाल के लिए आप प्रतिदिन कुछ बूंद शहद लेकर उसे निशान पर नियमित रूप से लगाएं। बेहतर परिणाम के लिए आप शहद और नींबू के रस को मिला भी सकते हैं।

खीरा है कमाल

खीरा स्किन को मुलायम बनाता है और इसे हाइड्रेटेड रखता है। खीरे का इस्तेमाल निशानों को कम करने के लिए करना एक अच्छा विचार हो सकता है। इसके लिए आप पेस्ट बनाकर उसे निशान पर लगाएं। बेहतर परिणाम के लिए आप इसे पेस्ट को नियमित रूप से लगाएं।

चंदन भी है प्रभावी

आपको शायद पता न हो लेकिन चोट के निशान को खत्म करनके के लिए चंदन पाऊडर एक बहुत अच्छा घरेलू नुस्खा है। इसके इस्तेमाल के लिए आप चंदन पाऊ़डर में गुलाब जल मिला लें और साथ में दो चम्मच दूध भी डाल लें। इसका एक गाढ़ा पेस्ट बना लीजिए और निशान पर लगाएं। एक घंटे के लिए सूखने के लिए छोड़ दें और फिर ठंडे पानी से धोएं। कुछ ही दिनों में आपको फर्क नजर आने लगेगा।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *