Breaking News
Home / ट्रेंडिंग / आर्थिक विकास दर में लगातार गिरावट से संबंधित कई तथ्य आये सामने, अब होगा ये असर!

आर्थिक विकास दर में लगातार गिरावट से संबंधित कई तथ्य आये सामने, अब होगा ये असर!

भारतीय अर्थवयवस्था के लिए वर्त्तमान में जीडीपी का छह साल के न्यूनतम स्तर पर पहुँच जाना एक चिंता का विषय है| चालू वित्त वर्ष (2019-2020) की दूसरी तिमाही में जीडीपी दर 0.5 प्रतिशत की गिरावट के साथ 4.5 प्रतिशत पर आ गयी है| यह दर चालू वित्त वर्ष के प्रथम तिमाही में 5 प्रतिशत पर थी| अतः केवल तीन महीनो में 0.5 प्रतिशत की गिरवाट सच में एक चिंता का विषय है| इससे पहले वित्त वर्ष (2012-2013) के जनवरी – मार्च की तिमाही में ये दर 4.3 प्रतिशत थी |

आर्थिक मामलों के विशेषज्ञों का मानना है कि आर्थिक विकास के दर में लगातार हो रही गिरावट से बेरोजगारी की समस्या और भी ज्यादा प्रबल हो जाएगी तथा देश की अर्थव्यवस्था गंभीर मंदी की चपेट में आ सकती है | उनका मानना है कि भारतीय अर्थव्यवस्था की वर्त्तमान स्थिती का कारण सरकार की कमजोर आर्थिक नीतियाँ हैं |

Loading...

उच्च जीएसटी दरों को इस समस्या की प्रमुख वजह मानी जा रही है| साथ ही साथ आय में कमी की वजह से उपभोग का स्तर भी घटा है, जिससे उत्पादन, बचत, निवेश आदि सभी क्षेत्रों में गिरावट स्पष्ट रूप से दिखाई दे रही है| विशेषज्ञों का कहना है की ऐसी स्थिति में आम नागरिकों को अपने खर्चों को नियंत्रित करने की आवश्यकता है, जिससे भविष्य में जटिल परिस्थियों का सामना किया जा सके|

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *