फेल हो गए थे इस फिल्ममेकर के कई ऑर्गन, अस्पताल में ऐसी थी हालत!

फिल्म इंडस्ट्री से बुरी खबर सामने आई है. बंगाली फिल्मों के फेमस डायरेक्टर तरुण मजूमदार का निधन हो गया है. मल्टीपल ऑर्गन फेलियर के कारण उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था पर ाज उनका निधन हो गया. इस खबर से बंगाली फिल्म इंडस्ट्री में शोक है.

तरुण मजूमदार ने कोलकाता में 92 साल की उम्र में आखिरी सांस ली है. उन्हें 14 जून को कोलकाता के SSKM अस्ताल में मल्टीपल ऑर्गन फेलियर के चलते भर्ती कराया गया था. बीते दिन तबियत बिगड़ने से उन्हें वेंटिलेटर पर शिफ्ट कर दिया गया पर उनकी जान नहीं बचाई जा सकी. उनके निधन से बंगाली फिल्म इंडस्ट्री में शोक है. बंगाल के गवर्नर जगदीप धनखड़ ने ट्वीट कर उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है.

मजूमदार मिडिल क्लास फैमिली पर आधारित फिल्में बनाने के लिए फेमस थे. उन्होंने 4 नेशनल अवॉर्ड और 5 फिल्मफेयर अवॉर्ड जीते हैं. 1990 में वो पद्मश्री से सम्मानित हो चुके हैं. उन्होंने अपने करियर में कई ब्लॉकबस्टर फिल्में दी हैं. उनमें बालिका वधू (1967), कुहेली (1971), श्रीमान पृथ्वीराज (1973), फुलेस्वरी (1974), दादर कीर्ती (1980) सहित कई और फिल्में शामिल हैं.

दिवंगर डायरेक्टर ने 2018 में आखिरी फिल्में बनाई थी जो कि डॉक्यूमेंटरी थी. उन्होंने उसी साल अधिकार और भालोबाशार बारी नाम की दो डॉक्यूमेंटरी फिल्में बनाई थीं.

यह भी पढ़ें:

भूल जाएंगे आईफोन-मोटो, आ रहा किफायती दाम वाला Foldable फोन, सैमसंग करेगी लॉन्च