सेहत के लिए बेहद हानिकारक है नकली मावा, ऐसे करें पहचान

कई तरह के व्यजंन बनाने में मावे का इस्तेमाल किया जाता है। चूंकि इसे बनाने में काफी समय और मेहनत लगती है, इसलिए लोग बाजार से मावा खरीदते हैं। पर बहुत सी जगहों पर मावा नकली भी मिलता है। इसलिए उसकी पहचान करना बेहद जरूरी है। दरअसल, मिलावटी मावा को तैयार करने के लिए सिंथेटिक दूध का इस्तेमाल किया जाता है। मिलावटी मावे के सेवन से कैंसर होने का डर रहता है। इतना ही नहीं नकली मावा के सेवन से लीवर में सूजन और आंतों में संक्रमण होने का डर भी बढ़ जाता है। तो चलिए जानते हैं कैसे करें नकली मावे की पहचान-

मावे को आप अपनी उंगलियों की मदद से भी पहचान सकते हैं। अगर आप मावा खरीद रहे हैं तो खरीदने से पहले उसे थोड़ा सा अपने अंगूठे के नाखून पर रगड़े और कुछ देर बाद चेक करें। असली मावा काफी देर तक महकता है।

मावे का स्वाद भी इसकी असलियत की कहानी बयां करता है। इसके लिए मावा खरीदते समय थोड़ा सा पहले चखें। अगर आपको इसका स्वाद कसैला लगे तो उसे बिल्कुल भी न खरीदें क्योंकि वह नकली मावा है।

असली मावे में बेहद चिकनापन होता है। इसके इसी गुण के चलते इसकी पहचान की जा सकती है। थोड़ा सा मावा हाथ में लेकर इसकी गोली बना लें। अगर ये गोली फटने लगें तो इसका मतलब साफ है कि ये नकली है। इतना ही नहीं मावे को हाथ में लेते हुए अगर आपको चिकनापन न लगें, तो यह भी इस बात का इशारा है कि यह नकली है।

मावे को चेक करने का एक तरीका यह है कि एक बर्तन में थोड़ा-सा पानी डालकर गर्म करें। गर्म होने के बाद उसमें टिंचर आयोडीन की कुछ बूंदे डालें। अगर मावा मिलावटी होगा तो उसका रंग तभी बदलकर नीला हो जाएगा। अगर रंग नहीं बदलता मतलब आपका मावा असली है।