वसा एक महामारी जो धीरे-धीरे पूरी दुनिया को ले रही है अपनी गिरफ्त में

दुनिया में करीब एक तिहाई आबादी अतिरिक्त वसा की शिकार है। यह एक नई महामारी बन गई है जो धीरे-धीरे पूरी दुनिया को अपनी गिरफ्त में ले रही है।अतिरिक्त वसा को पर्याप्त मात्रा में से ज्यादा शरीर की वसा के रूप में व्यक्त किया गया है। इसका स्वास्थ्य पर बहुत गलत प्रभाव पड़ता है।

आस्ट्रेलिया के माफ फिटनेस का कार्यकारी अधिकारी  ने कहा, “पुरानी बीमारियों को बढ़ावा देने, स्वास्थ्य देखभाल के खर्चो के बढ़ने, सभी आयु वर्ग के लोगों और आय पर प्रभाव डालने के कारन यह वैश्विक चिंता का विषय है।”

शोधकर्ताओं ने कहा ज्यादा वजन और मोटापे से पीड़ित लोगों के अलावा दूसरे लोग अतिरिक्त वसा की श्रेणी में शामिल हो रहे हैं। इसमें नार्मल वजन वाले लोग भी शामिल हैं।

उन्होंने  कहा, “अतिरिक्त वसा की श्रेणी में नार्मल वजन वाले लोग भी शामिल हैं। इससे इनमें पुरानी बीमारियों के होने का खतरा बढ़ जाता है। इसमें ज्यादा पेट की चर्बी भी शामिल है।”

उन्होंने कहा, “अतिरिक्त वसा की महामारी से प्रतिदिन व्यायाम करने वाले या खेलों में हिस्सा लेने वाले भी नहीं बच पा रहे हैं।”

अध्ययन में कहा गया है कि मोटापे की महामारी बीते तीन से चार दशकों में बहुत तेजी से बढ़ी है। अध्ययन में बहुत ज्यादा संख्या में लोगों में अस्वास्थ्यकर शारीरिक वसा के होने की बात कही गई है। शोध में यह भी बताया गया है कि विश्व की 9-10 फीसद जनसंख्या में वसा की कमी है।

शोध में संकेत दिया गया है कि विश्व की 14 फीसद जनसंख्या में वसा का  स्तर सामान्य है।