सौंफ आंखों की रोशनी को बढ़ाने में करता है मदद, और भी हैं कई फायदे

लगातार स्क्रीन पर देखते रहने से आंखों की रोशनी प्रभावित होती है। आंखों में पानी आना, धुंधली दृष्टि और लगातार सिरदर्द इसके कुछ लक्षणों में से हैं। दृष्टि पर विश्व स्वास्थ्य संगठन की पहली रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया भर में एक अरब से अधिक लोग दृष्टि हानि के साथ जी रहे हैं क्योंकि उन्हें लघु और दूरदर्शिता, मोतियाबिंद जैसी स्थितियों के लिए आवश्यक देखभाल नहीं मिलती है। रिपोर्ट में पाया गया है कि, प्रदूषण, अनहेल्दी लाइफस्टाइल, आंखों की सही देखभाल ना करना या फिर लगातार स्क्रीन पर देखने से आंखों की रोशनी प्रभावित होती है। ऐसे में सौंफ आंखों की रोशनी के लिए बेहद फायदेमंद होता है।

आंखों के लिए सौंफ: आंखों की रोशनी में सुधार करने में मदद करने के लिए मेडिकेटेड ड्रॉप्स और उपचार उपलब्ध हैं। बहुत से लोग आंखों की समस्या के शुरुआती लक्षणों से लड़ने के लिए सौंफ के बीज और बादाम के एक साधारण मिश्रण का सेवन करते हैं। सौंफ में एंटीऑक्सीडेंट और पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो मोतियाबिंद की प्रगति को धीमा करने और स्वस्थ आंखों को बढ़ावा देने में मदद करते हैं। सौंफ आंखों की रोशनी को बढ़ाने में मदद करता है, जबकि बादाम ओमेगा -3 फैटी एसिड, एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन ई में बहुत समृद्ध हैं जो दृष्टि में सुधार के लिए बहुत उपयोगी हैं। बादाम एकाग्रता और स्मरण शक्ति को बढ़ाने में भी मदद करता है।

विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर आंवले का सेवन करने से आंखों की समस्याओं को दूर रखने में मदद मिलती है। विटामिन सी स्वस्थ केशिकाओं को बढ़ावा देने और रेटिना सेल्स के उचित कामकाज को बनाए रखने में मदद करता है, जिससे आंखों की रोशनी में सुधार होता है।

आंखों की समस्या के संकेत देने वाले लक्षणों में शामिल हैं:

धुंधली और अस्पष्ट दृष्टि।
आंखों के अंदर और आसपास दर्द, सूजन, खुजली।
आंखें लाल होना।
आंखों में छोटे धब्बे होना।

इन समस्याओं के मुख्य कारण हैं:

प्रदूषण के कारण आंखों में गंदगी जमा हो जाना।
आंखों पर या आसपास बहुत सारे कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करने से आंखों में जलन होने लगना।
लंबे समय तक फोन, लैपटॉप पर देखने से आंखों में जलन होने लगना या फिर पानी आ जाना।

यह भी पढे –

जीरा ना सिर्फ कोलेस्ट्रॉल और वजन कंट्रोल करता है, बल्कि और भी कई लाभ प्रदान करता है, जानिए