पहला स्टार्टअप इंडिया सप्ताह सोमवार से, अंतिम दिन मोदी भी लेंगे हिस्सा

भारत में स्टार्टअप और नवप्रवर्तन के वातावरण में तीव्र सुधार को दुनिया के सामने लाने के लिए सोमवार से शुरू हो रहे पहले ‘स्टार्टअप इंडिया नवप्रवर्तन सप्ताह’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्रीय स्टार्टअप पुरस्कार प्रदान करेंगे और 150 चुनिंदा स्टार्टअप इकाइयों के प्रतिनिधियों के साथ चर्चा करेंगे।

ऑनलाइन 10-15 जनवरी तक चलने वाले इस आयोजन के दौरान सरकार ई-कॉमर्स के क्षेत्र में एक बड़ी पहल- ओपन नेटवर्क फार डिजिटल कॉमर्स (ओएनडीसी) शुरू करने की घोषणा कर सकती है। उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग डीपीआईआईटी के सचिव अनुराग जैन ने आयोजन की जानकारी के लिए आयोजित ऑनलाइन प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल स्टार्टअप इंडिया सप्ताह का उद्घाटन करेंगे।

प्रधानमंत्री मोदी छठे दिन 15 जनवरी को विशेष सत्र में 150 चुनिंदा स्टार्टअप इकाइयों के प्रतिनिधियों के साथ चर्चा करेंगे इन इकाइयों का चयन बारीकी से किया गया है। इनमें से वे स्टार्टअप भी होंगे जिन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार के लिए चुना गया है। आजादी के अमृत महोत्सव के कार्यक्रमों के बीच स्टार्ट अप सप्ताह का आयोजन डीपीआईआईटी के तत्वाधान में किया गया है। इसमें केंद्र के 29 विभागों के अलावा राज्य सरकारें और निजी क्षेत्र की कंपनियों के प्रतिनिधि शामिल होंगे।

आयोजन के लिए यह समय इसलिए चुना गया है क्योंकि प्रधानमंत्री ने 16 जनवरी 2016 को स्टार्टअप इंडिया अभियान को शुरू किया था जिसने भारत में स्टार्टअप इकाइयों के प्रोत्साहन के लिए कई पहल की गई थी। कार्यक्रमों में भारत में तेजी से बढ़ रही स्टार्टअप इकाइयों और स्टार्टअप वातावरण की मजबूती की झलक प्रस्तुत की जाएगी।

जैन ने कहा कि वास्तव में 2021 भारत में यूनिकॉर्न का वर्ष रहा। देश में इस दौरान 44 से अधिक यूनिकोड खड़े हुए जिनमें से प्रत्येक की बाजार में हैसियत एक अरब डालर से अधिक की है। डीपीआईआईटी के सचिव ने बताया कि विभाग ने 61000 स्टार्टअप स्कोर मान्यता दी है जो 55 प्रकार के उद्योगों में लगे हैं।

उन्होंने बताया कि भारत में इस समय 633 सीटों में कोई न कोई स्टार्टअप काम कर रहा है। वर्ष 2016 से अब तक स्टार्टअप इकाइयों में 6,00,000 से अधिक लोगों को सीधे रोजगार मिला है। उन्होंने कहा,“परिस्थितियां बदल गई हैं। संस्कृति बदली है ,रोजगार ढूंढने वाले हमारे युवा अब रोजगार का सृजन कर रहे हैं। ” उन्होंने कहा कि भारत में इस समय 45 फीसदी इस्टार्टअप इकाइयां टियर 2 और टियर 3 यानी छोटे और मझोले शहरों की हैं।

यह भी पढ़े: जिला स्तर पर कोविड से निपटने के निर्देश दिये मोदी ने