फोलेट की कमी महिलाओं के लिए होती है बहुत घातक, जानिए कैसे

महिला भले ही दूसरों का बेहद अच्छे से ख्याल रखती हो लेकिन खुद को स्वास्थ्य को लेकर वह बेहद ही लापरवाह होती है। जिसके कारण उन्हें कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हो जाती हैं। खासतौर से, शरीर में फोलेट की कमी कई तरह की बीमारियों की वजह बनती हैं। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में-

  1. महिला के शरीर में फोलेट की कमी हार्ट अटैक और स्ट्रोक का कारण बनती है। दरअसल, फोलेट शरीर में हीमोसिस्टीन के स्तर को बनाए रखता है और जब इसकी कमी हो जाती है तो हीमोसिस्टीन के स्तर में भी कमी आती है, जिससे दिल की बीमारियों के साथ हार्ट अटैक और हार्ट स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है।
  2. फोलेट शरीर के साथ मानसिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित करता है। इसकी कमी से महिलाओं में मानसिक विकार जैसे तनाव, डिप्रैशन, साइक्‍लोथीमिया और डीरियलाइजेशन का खतरा भी बढ़ जाता है।
  3. वर्तमान में भारत में बहुत सी महिलाएं एनीमिक हैं, जिसका एक कारण उनके शरीर में फोलेट की कमी है। फोलेट शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं और प्लेटलेट्स का निर्माण करने के लिए बहुत जरूरी है।
  4. खून में फोलेट की कमी कई मामलों में सर्वाइकल कैंसर, स्तन कैंसर, कोलन कैंसर, मस्तिष्क कैंसर और फेफड़ों में कैंसर होने का खतरा भी बढ़ा देती है।
  5. आपके शरीर में फोलेट की कमी न हो, इसके लिए आप हरी पत्‍तेदार सब्जियां, फलियां, बीज, अंडा, अनाज, खट्टे फल, ब्रोकली, पपीता, स्‍ट्रॉबेरी, सेम, राजमा और किडनी बींस को अपनी डाइट में मुख्य रूप से शामिल करें।
Loading...