लॉकडाउन में बच्चों में बढ़ रहा चिड़चिड़ापन दूर करने के लिए अपनाएं ये 5 टिप्स

लॉकडाउन की वजह से घर में रहकर मन चिड़चिड़ा होना स्वाभाविक है। इसका सबसे ज्यादा प्रभाव बच्चों पर दिखाई देता है। ऐसे में परिवार के बड़े लोगों को धैर्य के साथ काम लेना चाहिए। यदि आपके बच्चे इस लॉकडाउन के दौरान व्यावहारिक रूप से चिड़चिड़े हो गए है तो कुछ टिप्स अपनाएं। इन टिप्स के इस्तेमाल से आप अपने बच्चों को खुश रखने में कामयाब हो पाएंगे और उनका जुड़ाव परिवार के साथ बढ़ेगा।

बच्चों का चिड़चिड़ापन दूर करने के टिप्स:

1. लॉकडाउन में टीनएजर अपने सबसे अच्छे दोस्तों से दूर हो गए है। यह स्तिथि उन्हें चिड़चिड़ा बना रही है। ऐसे में उन्हें परिस्तिथि के मुताबिक खुद को ढालने में समस्या हो रही होगी। इसलिए चिड़चिड़ाहट या उदासी को समझने का प्रयास करें। उनपर बेमतलब गुस्सा ना करें, नहीं तो चिड़चिड़ाहट बढ़ सकती है।

2. किशोर अवस्था में बच्चों को अकेलेपन की वजह से आ रही चिड़चिड़ाहट को दूर करने के लिए उनसे एक नियमित दिनचर्या बनाने के लिए कहें। जिसमें दोस्तों के साथ चैटिंग, ऑनलाइन / ऑफलाइन पढ़ाई और व्यायाम जैसे जरुरी कामों को जरूर शामिल करें।

3. टीनेज में बच्चों के पास कई तरह की जिज्ञासाएं, चिंताएं मन में बनी रहती है। जिसकी वजह से नकारात्मकता मन पर हावी हो सकती है। ऐसे में परिवार के बड़े लोगों को कर्त्वय बनता है कि वह अपने बच्चों से उनके भविष्य को लेकर उम्मीद भरी बातें और उनका नजरिया पूछें।

4. अकेलेपन से आ रही चिड़चिड़ाहट को दूर करने के लिए किशोर बच्चों की जिम्मेदारी परिवार के कामों में सुनिश्चित करें। ऐसा करने से वह परिवार के साथ जुड़े रहेंगे और अपनी परिवार में अहम भूमिका का अहसास भी करेंगे। संयुक्त परिवार में रहते है तो बच्चों को बुजुर्गों और छोटों से संबंधित काम देवें।

5. मौजूदा समय ऑनलाइन-डिजिटल हो चुका है। ऐसे में किशोर बच्चों को ऑनलाइन सेफ्टी नियमों से अवगत कराएं। साथ ही ऑनलाइन रहने का वक्त भी आवश्यक रूप से निर्धारित करें। यही नहीं अपने बच्चों की पसंद में खुद को भी शरीक करने का प्रयास करें।

यह भी पढ़े: Falooda Recipe: लॉकडाउन में घर के अंदर ही रहकर बनाएं ठंडा-ठंडा लजीज फालूदा
यह भी पढ़े: आयरन और विटामिन-सी की कमी को पूरा करने के लिए कीजिए इस जूस का सेवन

Loading...