अपनाएं यह घरेलू उपाय यदि आप भी है सांस की दुर्गंध से परेशान

हैलिटोसिस यानी श्वास की दुर्गंध काफी परेशानदायक और आम समस्या है। इस समस्या से पीड़ित व्यक्ति को अपनी बीमारी के बारे में पता ही नहीं होता है।

सांस की दुर्गंध का उपचार
सबसे पहले उसके कारणों का पहचाने फिर उपचार करें।दांतों और जीभ की नियमित व सही सफाई करें, जिससे बैक्टीरिया को पनपने का मौका नहीं मिले ।

दांतों में किसी प्रकार की बीमारी हो तो उसकी जांच व इलाज करवाएं।

पानी पीने की मात्रा बढ़ा दें।

पान, तम्बाकू, बीड़ी, सिगरेट, पान मसाला, गुटका, शराब आदि का सेवन न करें।

भूखे रहने से मुंह में लार बनने की प्रक्रिया धीमी पड़ जाती है और मुंह में बैक्टीरिया पनपने लगते हैं।

पेट में कब्ज ना रहने दें. पेट को साफ रखें, कब्ज दूर करने के लिए रात को सोते समय आठ दस मुनक्का का सेवन करें।

शरीर से अधिक पसीना निकलने पर भी मुंह से दुर्गंध निकलती है, ऐसे में रोजाना अच्छी तरह से स्नान करें।रेशे युक्त

फल व सब्जियों का सेवन करें। भोजन को खूब चबा-चबा कर खाएं।

अच्छे किस्म का माउथवाश से मुंह को साफ करें।

सांसो की दुर्गंध दूर करने के घरेलू उपाय

नींबू को काट कर हल्के हाथों से दांतों व मसूढ़ों पर रगड़ें। नींबू में पाएं जाने वाला विटामिन सी मुख के आंतरिक ऊतकों को संकुचित कर, उनसे विषैले पदार्थ निकालकर दांतों व मसूढ़ों को दृढ़ बनाता है।

नींबू एक अच्छा माउथवाशनर भी है।

गुनगुने पानी में एक चम्मच नमक मिला कर गरारे करें. नमक में पाएं जाने वाले तत्व मुख के अंदर की मृत कोशिकाओं को निकाल देते है।

एक गिलास ठंडे पानी में दो चम्मच गुलाब जल डालकर मुख को अच्छे से साफ करें।

एक गिलास ताजे पानी में दो बूंद लौंग का तेल डालकर इस पानी से गरारे करें।

यह भी पढ़ें-

ये ज़रूर पढ़े आप भी अगर इमोशनल ईटिंग के है शिकार