छींक को जबरन रोकना है हमारे सेहत के लिए बहुत खतरनाक

कई लोगों में छींक को जबरन रोकने या फिर उस वक्त अपना नाक दबा लेने की बहुत ही बुरी आदत होती है। चिकित्सकों की मानें तो ऐसा करना सेहत के लिए बहुत ही ज्यादा नुकसानदायक होता है। छींक के दौरान नाक और मुंह से जो भी हवा निकलती है उसकी गति लगभग 100 मील प्रति घंटे की होती है।

ऐसे में उसे जबरन रोकने से नाक की कार्टिलेज में फैक्चर होने, नाक से खून आने, कान का पर्दे फटने, सुनाई न देने, चक्कर आने, आंखों पर दबाव पडऩे से रेटिना क्षतिग्रस्त होने और चेहरे पर सूजन आने जैसी गंभीर समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। इसलिए छींक आने पर नाक और मुंह के सामने रुमाल या टिशू पेपर रख सकते हैं लेकिन छींक को आने से रोकने की गलती कभी भी न करें।

स्लिमिंग पिल्स के भी हो सकते हैं दुष्प्रभाव
इन दिनों युवाओं में बढ़ते वजन के मामले ज्यादा सामने आ रहे हैं। जिसका कारण फिजिकल एक्टिविटी और सही खानपान का अभाव और स्लिमिंग पिल्स को वजन कम करने का शॉर्टकट बनाना है। ये शरीर में बदलाव तो करती हैं लेकिन धीरे-धीरे इसके दुष्प्रभाव खासकर हृदय, लिवर व पाचनतंत्र पर बुरा असर डालते है।

होता है असर
जो लोग इन्हें लेते हैं उनमें इसका असर तभी होता है जब इनके साथ खानपान में सही परहेज व दिनचर्या में शारीरिक गतिविधि भी शामिल की जाए। नुकसान के तौर पर इन दवाओं को बंद करने से वजन दोबारा बढ़ता है। यूरिन में जलन, पाचनतंत्र में संक्रमण, कब्ज, एलर्जी, पेट दर्द, उल्टी व फूड पाइप में ब्लॉकेज भी हो सकता है।

सावधानी
वजन बहुत जल्दी घटाने के चक्कर में दो अलग ग्रुप की स्लिमिंग पिल्स एक साथ न लें। किसी भी तरह की परेशानी या लक्षण को कभी नजरअंदाज न करें।

यह भी पढ़ें:

एल्युमिनियम फॉयल में पैक खाना बनता है इन गंभीर बीमारियों का कारण!

कमर दर्द से हैं परेशान, तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खे

Loading...