कोरोना मरीजों पर बिना अनुमति दवा ट्रायल करने के आरोप में गहलोत सरकार ने अस्पताल को जारी किया नोटिस

राजस्थान स्वास्थय विभाग ने जयपुर स्थित निम्स अस्पताल को नोटिस जारी किया है। जिसके तहत पूछा गया है कि अस्पताल द्वारा कोरोना मरीजों पर पतंजली आयुर्वेद ड्रग काउंसिल की दवाई का ट्रायल किस आधार पर किया गया। राजस्थान सरकार ने पूरे मामले पर निम्स अस्पताल से जवाब मांगा है। जयपुर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. नरोत्तम शर्मा ने बताया कि निम्स अस्पताल को बुधवार शाम को नोटिस जारी कर तीन दिनों में स्पष्टीकरण मांगा है।

स्वास्थय मंत्री ने कहा कि निम्स अस्पताल ने ट्रायल के लिए राज्य सरकार को सूचित नहीं किया और ना ही किसी प्रकार से अनुमति मांगी। मंत्री ने कहा कि उन्हें नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (NIMS), जयपुर से जवाब का इंतजार रहेगा।

उल्लेखनीय है कि योग गुरु बाबा रामदेव ने मंगलवार को कोरोना टेबलेट ‘कोरोनिल’ लॉन्च की थी। जिसके बाद आयुष मंत्रालय ने इसके परीक्षण पर सभी जानकारी मांगी और कोरोना के इलाज के कारगर दवा के रूप में इसका विज्ञापन करने पर प्रतिबंध लगा दिया। सरकार का कहना है कि आयुष मंत्रालय की अनुमति के बिना दवा का उपयोग नहीं किया जा सकता है। पूरे मामले पर राज्य के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने विक्रेता के खिलाफ सख्त कार्रवाई की बता कही।

यह भी पढ़े: भारत और अमेरिका के चक्रव्यूह में फंसा चीन, पहाड़ी और समुद्र इलाके में बढ़ गई टेंशन
यह भी पढ़े: लॉन्च हुआ भारत का पहला ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ स्कूटर, जानें क्या है कीमत और बैटरी क्षमता