पेपर लीक मामले की सीबीआई से जांच कराए सरकार:कांग्रेस

हिमाचल प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष नरेश चैाहान ने पुलिस भर्ती पेपर लीक मामलें की जांच किसी सिटिंग जज से या केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से करवाने की मांग की है।

श्री चौहान ने शनिवार को यहां पत्रकारों से कहा कि चूंकि यह पुलिस भर्ती का ही मामला है और एसआईटी भी पुलिस की है इसलिए इस जांच का कोई मतलब नही है। उन्होंने डीजीपी को उनके पद से हटाने की मांग करते हुए इसमें संदिग्ध लोगों को तुरंत गिरफ्तार करने की मांग सरकार से की है।

उन्होंने सरकार पर आरोप लगाया कि प्रदेश में माफिया का राज चल रहा है। पुलिस परीक्षा का पेपर तीन लाख से आठ लाख के बीच बेचा गया। इसमें करोड़ो का लेनदेन हुआ है। सरकार इसमें शामिल लोगों को बचाने का प्रयास कर रही है इसलिए इसकी न्यायिक या सीबीआई जांच की जानी चाहिए। प्रदेश के इतिहास में पहली बार पेपर लीक हुआ जिसके चलते पहले पटवारी, फिर कन्डेक्टर की पतिक्षा रद्द करनी पड़ी। इसी दौरान जेओए की परीक्षा का आज दिन तक परिणाम घोषित नही हुआ।

उन्होंने इस परीक्षा को भी पुनः करवाने की मांग की है। सरकार अपनी जवाबदेही से बच रही है। मुख्यमंत्री मजबूर व दबाव में कार्य कर रहें है। कांग्रेस ने मामले की जांच के लिए गठित एसआईटी पर सवाल खड़े किए है। कांग्रेस ने डीजीपी को बर्खास्त कर सीबीआई या न्यायिक जांच की मांग की है।

उन्होंने आरोप लगाया कि डीजीपी इसे गम्भीरता से नही ले रहे हैं। जयराम सरकार डीजीपी को बर्खास्त कर मामले की सीबीआई या न्यायिक जांच करवाए। उन्होंने कहा कि महंगाई चरम पर है लोग महंगाई से त्रस्त है लेकिन बीजेपी की मोदी सरकार पिछले आठ सालों से कांग्रेस को कोसने में लगी है। सरकार अपनी कारगुजारी को जनता को बताने के बजाए विपक्ष से सवाल कर रही है। जनता को गुमराह करने का प्रयास हो रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता बुद्धिजीवी है वह चुनावों में बीजेपी को सत्ता से बाहर करेगी।

यह भी पढ़ें:-आप कर सकते है केले के छिलके से अपनी झुर्रियां कम