Breaking News
Home / लाइफस्टाइल / इस राज्य में होता है हरे नमक का इस्तेमाल, जानिए कैसे होता है तैयार

इस राज्य में होता है हरे नमक का इस्तेमाल, जानिए कैसे होता है तैयार

सामान्यतः नमक के दो रूप ही देखे गये हैं। पहला सफेद नमक (खाना बनाने में प्रयोग होने वाला ) और दूसरा काला नमक (सलाद व अन्य व्यंजनों में प्रयोग में आने वाला)।

मगर नमक के इन दो रूपों के अलावा एक अन्य तीसरा नमक भी है जिसे साधारण नमक की तरह नहीं बल्कि अलग- अलग व्यंजनों में मिला कर खाया जाता है। नमक का तीसरा रूप यानि हरा नमक, जो सामान्यता बाजारों में नहीं मिलता है। हालांकि हरा नमक घरों में तैयार किया जाता है। साथ ही हरा नमक खाने के फायदे भी बहुत सारे हैं।

हरा नमक जैसा नाम से ही स्पष्ट है हरियाली की ओर संकेत कर रहा है और यह नमक उत्तराखंड के व्यंजनों में बहुत ही विशेष स्थान रखता है, जिसे सिर्फ उत्तराखंड के लोग ही बनाना जानते हैं।

तो सबसे पहले जानते हैं हरा नमक को बनाने की प्रक्रिया-

हरा नमक को बनाने के लिए, हरी मिर्च, कॉरिएंडर लीव्स (धनिया की पत्तियां), लहसुन , जीरा व सफेद नमक को एक साथ पीसकर तैयार किया जाता है। हरा नमक को तैयार करने हेतु सभी सामग्रियों का उपयोग एक अनुपात में किया जा सकता है। हरा नमक में प्रयोग हुए ये सभी सामग्री, इस नमक को अन्य नमक की तुलना में बहुत ही गुणकारी बनाती है।

 फिर जानते हैं हरा नमक खाने के फायदे –

हरी मिर्च-

हरा नमक में हरी मिर्च का प्रयोग भी होता है। हरी मिर्च का प्रयोग एक तरफ नमक को हरा रंग देने के लिये ही उपयोग में लिया जाता है तो दूसरी ओर हरी मिर्च आंखों को दोषों से हमे बचाती भी है। कई बार डॉक्टर लाल मिर्च का सेवन करने से हमे मना करते हैं और उसके बदले हरी मिर्च को आहार में शामिल होने की सलाह देते हैं

लहसुन-

लहसुन, पेट की परेशानी जैसे एसिडिटी व कब्ज की दिक्कत से हमे छुटकारा दिलाता है। अक्सर भोजन का सेवन करने बाद शरीर में एसिडिटी की समस्या हो ही जाती है यदि खाने के साथ, सलाद में हरा नमक का प्रयोग किया जाएगा तो नमक बनाने में यूज लहसुन एसिडिटी व कब्ज की परेशानी को बहुत हद तक दूर कर देगा।

कोरिएंडर लीव्स –

भोजन में धनिया का प्रयोग, खाने को आकर्षित दिखाने में प्रयोग होता है इसके साथ धनिया से मिलने वाला हरा रंग व खुशबू खाने को बहुत ज़ायकेदार बनाती है धनिया की इन खुबियों से हरा नमक बनाने में इसका इस्तेमाल किया जाता है मगर धनिया से शरीर में ताजगी बनी रहती है जिससे शरीर बहुत ही तंदुरुस्त रहता है।

सफेद नमक-

हरा नमक में सफेद नमक का यूज मात्र नमक को नमकीन बनाने के लिए किया जाता है, मगर हरा नमक, सफेद नमक की तरह ही सेहत को बहुत ज्यादा हानि नहीं पहुंचाता है जैसे कि सफेद नमक खाने से अक्सर हाईब्लड़ प्रेशर की शिकायत होती है। मगर हरा नमक हाईब्लड़ प्रेशर को पूरी तरह संतुलित रखता है

जीरा-

शरीर को ठण्ड़क पहुंचाता है जीरा। व जीरा, नमक में हरी मिर्च व लहसुन के बीच बेलेंस बनाने का कार्य भी करता है। जिससे नमक में संतुलन बना रहे व शरीर में हरी मिर्च व लहसुन से समस्या कभी न उत्पन्न हों।

ये है हरा नमक खाने के फायदे – इस तरह से हरा नमक- अन्य नमक की तुलना में बहुत भिन्न है। जिसे घरेलु सामग्रियों से तैयार किया जाता है व यह नमक अन्य नमक की तुलना में बहुत अधिक लाभकारी भी है जो बाजारों में नहीं मिलता है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *