Breaking News
Home / ट्रेंडिंग / क्या विचारधारा के स्तर पर बंट चुकी है शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी?

क्या विचारधारा के स्तर पर बंट चुकी है शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी?

महाराष्ट्र में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी ने मिलकर सरकार बनाई। सरकार बनने के कुछ दिनों बाद ही तीनों पार्टियों में विचारधारा को लेकर बवाल होने लगे है। तीनों राजनितिक पार्टियां अपने-अपने विचारों को लेकर एक-दूसरे पर आए दिन बयानबाजी करती रहती है। विवाद ज्यादा तब बड़ा जब राहुल गांधी ने दिल्ली के रामलीला मैदान से अपनी के रैली को सबोंधित करते हुए कहा था कि मेरा नाम राहुल सावरकर नही, राहुल गांधी है। राहुल के इस बयान कि बीजेपी के कई नेताओं ने आलोचना की। शिवसेना ने भी उनके इस बयान पर हमलावार हो गई थी।

सावरकर के मुद्दे को लेकर शिवसेना के नेता संजय राउत ने एक बार फिर राजनीति को गर्म कर दिया है। संजय राउत ने कहा कि जो सावरकर की तकलीफ को महसूस नही कर सकते, उन्हें दो दिन अंडमान निकोबार की जेल में गुजारने चाहिए। फिर उन्हें सावरकर की तकलीफ महसूस होगी, सावरकर जे्ल में गए थे। उन्होंने वहां कई तकलीफें झेली थी।

Loading...

इससे पहले भी संजय राउत ने देश की पूर्व और पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गाधी को  लेकर एक बयान दिया था। जिसमें उन्होनें कहा था कि इंदिरा गांधी करीम लाला से मिलने के लिए दक्षिण मुंबई आया करती थी। संजय राउत ने कहा था कि दाऊद, छोटा शकील और शरद शेट्टी जैसे गैंगस्टर महानगरों और उनके आसपास के इलाकों पर अपना नियंत्रण रखते थे। हालांकि इंदिरा गांधी पर दिए अपने बयान के लिए उन्होंने माफी मांग ली थी। गौरतलब है कि महाराष्ट्र में अभी सरकार बनें कुछ ही समय हुआ है और तीनों पार्टियों की विचारधाराओं में इतना ज्यादा अतंर देखने को मिल रहा है। अब सवाल उठता है कि क्या महाराष्ट्र में गठबंधन की  सरकार ज्यादा दिन चल पाएगी या नही ।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *