हंसने से सेहत को होता है बहुत फायदा, जानकर रह जाएंगे दंग

हंसी वह संजीवनी है, जो रोते हुए को हंसा देती है, दुखों को कम कर देती हैं, उदासी को दूर कर देती है, गुस्से को शांत कर देती है, पहाड़ जैसे संकट को आसान कर देती हैं और भय को भगा देती है। हंसी इंसान को जिंदादिल बनाती है इसे पाने वाला मालामाल हो जाता है साथ ही देने वाला दरिद्र भी नहीं होता है। हंसने से चेहरे का अच्छा व्यायाम होता है इससे चेहरे पर नई चमक आ जाती है हंसने से  रक्तवाहनियां खुल जाती है। फेफड़ों का व्यायाम होता है और साथ ही इससे हृदय को शक्ति मिलती है।

हंसने से मस्तिष्क को अधिक मात्रा में आॅक्सीजन मिलने लगती हैं मस्तिष्क तेजी से काम करने लगता है हंसने से पाजिटिव एनर्जी उत्पन्न होता है जो मन में विश्वास पैदा कर भय को दूर करने काम करती है। मन की दुर्बलता, क्लेश, चिंता, दुख, सदमा, हीनभावना, आत्मविश्वास की कमी आदि दूर करने  के लिए हंसना एक अच्छा उपाय है।

जो लंबी बीमारी से पीड़ित है गंभीर व लंबी बीमारी से रोगी के मूड व स्वभाव पर भी विपरित प्रभाव पड़ता है उनके लिए जो लंबे समय से बीमार की देखभाल करते, मरीज के साथ रहतेरहते तनाव के शिकार हो जाते है उन्हें ह्यूमर थेरपी काफी राहत देती है। ह्यूमर थेरपी एक ऐसी थेरेपी है जिसमें बिना दवा के सिर्फ हंसी के द्वारा अनेक रोगों को दूर किया जा सकता है नीचे कुछ – कुछ हंसी के बारे में जानकारी और उसके लाभ के बारे में बताएं जा रहे हैं जिन्हें अपना कर आप लाभ ले सकते हैं।

हंसी के प्रकार

हा-हा लाफिंग – सीधे खड़े होकर शरीर को ऊपर की ओर उठाते हुए ‘हा-हा’ की आवाज में जोर से हंसे।
लाभ – इससे रक्त का प्रवाह तेज होता है जिससे धमनियां व शिराओं का फैलाव होता है व यह लचीला होती है, मस्तिष्क को पूरी गति से रक्त मिलने से तनाव दूर होता है।

हो-हो लाफिंग

श्वास को बाहर की ओर निकालते हुए हो-हो की आवाज में हंसे।
लाभ – इससे नाभि पर प्रभाव पड़ता है जिसके कारण स्पलिन, लीवर व किडनी मजबूत होते हैं उनकी कार्य क्षमता बढ़ती है।

इंटरमिटेंट लोंग लाफिंग

इस प्रक्रिया में श्वास को अंदर लेकर जाएं और फिर उसे रोक कर खुलकर झटके के साथ हंसे।
लाभ – इस तरह से हंसने पर पेल्विक क्षेत्र में तेजी से रक्त संचार होने लगता है जो सेक्स सक्रिता के लिए काफी लाभदायक होता है।

लांग लफ्टिंग लाफिंग

इसे रावण हंसी कहते हैं श्वास को बाहर निकालते हुए पूरे शरीर को हिलाते हुए खुल कर रावण लाफिंग करें।
लाभ – इससे नर्वस, मसकुर्लस तथा डायजस्ट  सिस्टम पर अच्छा प्रभाव पड़ता हैं। फेफड़े और हृदय को अधिक मात्रा में आक्सीजन मिलने से वह मजबूत होते हैं।

साइलेंट लाफिंग

बिना आवाज किए मुसकराहट के साथ हंसें।
लाभ – इसकर प्रभाव चेहरे की त्वचा पर पड़ता है। त्वचा पर लाली छा जाती है जिससे चेहरा दमकने लगता है।

हार्टी विगरस लाफिंग

मुंह खोलकर दिल से हंसे, हो सके तो ताली पीटते हुए खुल कर हंसे।
लाभ – लाफिंग एरोबिक भी कहा जाता है रक्त संचार को बढ़ाता है इससे रोग की  प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है हृदय व फेफड़े मजबूत होते हैं शरीर में स्फुर्ती मिलती है।

वार्क आप लाफिंग

लयबद्ध तरीके से हा-हा, हे-हे की उच्चारण के साथ हंसे। धीरे-धीरे इसकी गति को बढ़ाकर ऊंचाई तक ले जाएं। फिर मंद हंसिए ऐसी प्रक्रिया कई बार करें।
लाभ – इससे पूरे शरीर में रक्त तेजी से संचार होता है। मस्तिष्क को तेजी मिलने से तनाव दूर होते हैं।इससे हृदय और फेफड़े को मजबूती मिलती है।

इन बातों पर ध्यान रखें

हंसने का अभ्यास धीरे-धीरे बढ़ाए। पहले दिन से ही अधिक समय तक न हंसे। इससे लाभ की बजाय नुकसान हो सकता है।

हंसते समय श्वास की गति पर भी ध्यान रखें। श्वसन क्रिया सही न होेने पर हंसी से शरीर को लाभ नहीं मिलेगा।

फुर्सत के क्षणों में हल्के-फुल्के चुटकुले, अनुभव, रोचक संस्मरण को याद कर खुलकर भी हंस सकते हैं।

खुद को यह एहसास दिलाए की हंसी हृदय से पेट से गुजरते हुए दिमाग तक पहुंच रही हैं।

ह्यूमर थेरपी का लाभ आपको तभी मिलेगा जब जब इसके प्रति आपकी पाजिटिव सोच होगी।

किसी बीमारी से पीड़ित होने पर ह्यूमर थेरपी लेने के पहले ह्यूमर थेरपिस्ट से यह जानकारी जरूर ले ले कि आपके लिए कौनसी हंसी कितनी देर के लिए ठीक रहेगी।

इस बात का भी ध्यान रखें। इससे बीमारी दूर नहीं होती. बीमारी दूर करने व उसके प्रति पाजिटिव सोच उत्पन्न करने का काम करती है ह्यूमर थेरपी के साथसाथ दवा लेना चालू रखें।

हंसने के अंत में कुछ समय के लिए आंखे बंद करके मेडिटेशन करें। जिसमें अपने श्वास पर  ध्यान लगाए।

हंसना  मना है

दिल के रोगी, सीने में दर्द, फेफड़ा, टीबी, दमा, खूनी बवासीर, इंगविनल हार्निया आदि से पीड़ित रोगी को तेजी से हंसना मना है। पेट, दिल, हार्निया आदि बीमारी के आपरेशन के बाद भी तेज हंसना नहीं चाहिए। गर्भवति, हैवीच्युल एर्बासन से पीड़ित, सिजिरीयन डिलेवरी वाली स्त्री को तेज हंसने से बचना चाहिए। इस बात भी ध्यान रखें किसी दूसरे पर भी हंसना मना है।