जीवनभर रहना है हेल्दी, लाइफस्टाइल में करें यह छोटा सा बदलाव

कहते हैं कि पहला सुख निरोगी काया। जब व्यक्ति बीमार होता है तो उसका काफी सारा पैसा खर्च तो होता है ही, साथ ही वह शारीरिक व मानसिक रूप से भी कष्ट उठाता है। इसलिए हेल्थ को कभी भी इग्नोर नहीं करना चाहिए। अगर आप भी जीवनभर हेल्दी रहना चाहते हैं तो कुछ छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखें-

सबसे पहले तो सुबह जल्दी उठने की आदत डालें। कोशिश करें कि आप सुबह 6 से 7 बजे तक उठ जाएं। हालांकि इस बात का भी ध्यान रखें कि आपकी नींद पूरी हो। इसके लिए रात को जल्दी सोने की कोशिश करें। अगर रात में नींद पूरी नहीं होती तो सुबह उठकर एक्सरसाइज और ब्रेकफास्ट आदि करने के घंटे भर बाद एकाध घंटे का नैप ले सकते हैं। इससे नींद पूरी हो जाएगी। लंच और डिनर के बीच के स्नैक्स पर भी यही लागू होता है।

उठने के बाद सबसे पहले एक गिलास सादा या गुनगुना पानी पिएं। इससे शरीर के विषैले तत्व बाहर निकल जाते हैं। एक गिलास पानी में आधा नीबू निचोड़ कर भी पी सकते हैं।

उठने के बाद सबसे पहले चाय पीने की आदत है तो उसे आज ही बदल दें। इससे रात भर से भूखे शरीर को सही पोषण नहीं मिल पाता या चाय पीनी ही है तो फल या ड्राई-फ्रूट्स आदि खाने के करीब आधा घंटे बाद कप चाय लें।

सुबह के समय एक्सरसाइज करना अपनी दिनचर्या में शामिल करें। फिर चाहे आप वॉक करें, योग, मेडिटेशन या अन्य कोई व्यायाम, यह पूरी तरह आप पर निर्भर है।

अपने ब्रेकफस्ट में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और फैट तीनों को शामिल करें। दलिया, ओट्स, चीला, काठी रोल, पोहा (खूब सारी सब्जियों के साथ), पनीर रोल, होल ब्रेड सैंडविच आदि लेने चाहिए क्योंकि ये धीरे-धीरे शुगर रिलीज करते हैं। साथ में, प्रोटीन (दूध, पनीर, अंकुरित दालें या एग वाइट आदि) भी लें क्योंकि ऐसा करने से जल्दी भूख नहीं लगती। ब्रेकफस्ट के साथ फ्रेश सीजनल जूस ले सकते हैं।

डिनर पूरे दिन का सबसे हल्का खाना होना चाहिए। हमारा शरीर सूर्य के हिसाब से चलता है। ऐसे में दिन ढलने के बाद शरीर का मेटाबॉलिजम कम होने लगता है। साथ ही जितनी भूख हो उससे करीब 20 फीसदी कम खाना खाएं। इससे भारीपन और अपच की समस्या नहीं होती।

डिनर के करीब 15 मिनट बाद हल्की वॉक कर सकते हैं। तेज वॉक करना चाहते हैं तो डिनर से कम-से-कम आधे घंटे का गैप जरूर रखें।