हाई बीपी को कंट्रोल करने में मददगार है गुड़हल की चाय, जानिये बनाने की विधि

खराब जीवन-शैली और अनहेल्दी खानपान के कारण लोगों के रक्तचाप का स्तर बढ़ जाता है। इसके अलावा, कार्यक्षेत्र व निजी जीवन में होने वाला स्ट्रेस भी हाई बीपी का बहुत बड़ा कारण माना जाता है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार भारत की करीब 40 प्रतिशत शहरी आबादी हाइपरटेंशन की समस्या से ग्रस्त है। ब्लड प्रेशर की समस्या बहुत आम है, लेकिन अगर इसे गंभीरता से न लिया जाए समस्या गंभीर हो जाती है। सामान्य व्यक्ति की तुलना में हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को दिल का दौरा पड़ने की संभावना भी अधिक होती है। ऐसे में उच्च रक्तचाप की समस्या को लोगों को हल्के में नहीं लेना चाहिए। दवाइयों के अलावा, कुछ घरेलू उपाय भी उच्च रक्तचाप की समस्या को कम करने में मददगार है। इन्हीं उपायों में से एक है गुड़हल की चाय का सेवन-

बीपी के मरीजों के लिए गुड़हल की चाय: पिछले कुछ समय दुनिया भर में हर्बल चाय की मांग बढ़ गई है। गुड़हल फूल की पत्तियों से बनी चाय बीपी के मरीजों के लिए लाभदायक सिद्ध हो सकती है। रक्तचाप बढ़ने के पीछे कोलेस्ट्रॉल का बहुत बड़ा हाथ होता है। हिबिस्कस की चाय के सेवन से शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर नियंत्रित रहता है। इस चाय में भरपूर मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं, जो कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मददगार साबित हो सकते हैं। ऐसे में अगर आप रोज़ गुड़हल की चाय का सेवन करते हैं तो आपका ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है।

वहीं, ये चाय वजन कम करने में मददगार मानी जाती है। इस चाय में मौजूद एंजाइम एमीलेज स्टार्च को शुगर में बदलने की प्रक्रिया को रोककर, शरीर में शुगर और स्टार्च की मात्रा को नियंत्रित करती है, जिससे वजन को कम करने में सहयोग मिल सकता है।

क्या है बनाने की विधि: गुड़हल की चाय बनाने के लिए सबसे पहले इसके फूलों को साफ पानी से धो लें। अब इन फूलों की पत्तियों को उबलते हुए पानी में डाल लें। इसके बाद इसमें एक छोटा-सा दालचीनी का टुकड़ा भी डाल दें और लगभग पानी आधा होने तक उबालें। कुछ देर वैसे ही छोड़ दें और फिर छान लें। हालांकि, इसे 20 मिनट से अधिक न पकाएं नहीं तो चाय का स्वाद कड़वा हो जाएगा। अब इसमें थोड़ा-सा शहद और कुछ बूंदें नीबू की डाल कर पिएं।

ये हैं दूसरे फायदे: हाई बीपी के अलावा गुड़हल की चाय पीने के और भी कई फायदे हैं। लिवर को हेल्दी बनाए रखने में भी ये चाय रामबाण साबित हो सकती है। डायबिटीज के मरीजों के लिए इस चाय का सेवन फायदेमंद सिद्ध हो सकता है। बता दें कि हिबिस्कस के पत्तों के इथेनॉल एक्सट्रैक्ट में एंटी-डायबिटिक गुण पाए जाते हैं। इसके अलावा, इसमें एंटी-कैंसरस प्रॉपर्टीज भी होती हैं। स्ट्रेस व अवसाद से पीड़ित लोगों के लिए भी ये चाय पीना लाभदायक हो सकता है।

यह भी पढ़े-

Uric Acid के मरीज करें गोभी और मशरूम से परहेज, इन फूड आइटम्स से दूरी भी जरूरी