प्रोस्टेट कैंसर में हार्मोन थैरेपी से होता है डिप्रेशन का खतरा

अक्सर हम प्रोस्टेट कैंसर से निपटने के लिए हार्मोन थैरेपी का इस्तेमाल करते है। ताजा अध्ययन में इसके बहुत खतरनाक प्रभाव का पता चला है। हार्मोन थैरेपी की मदद ले रहे प्रोस्टेट कैंसर से पीडि़त उम्रदराज लोगों में डिप्रेशन (अवसाद) का खतरा बहुत ज्यादा पाया गया है।

शोधकर्ताओं के मुताबिक लोकलाइज्ड प्रोस्टेट कैंसर (पीसीए) का एंड्रोजेन डिप्राइवेशन थैरेपी (एडीटी) से इलाज कराने वालों के अवसाद की चपेट में आने का खतरा बहुत ज्यादा पाया गया है। विशेषषज्ञों ने बताया कि हार्मोन थैरेपी की मदद लेने वाले प्रोस्टेट कैंसर पीडि़तों में यौन इच्छा की कमी, वजन में वृृद्धि और ऊर्जा क्षीणता जैसी समस्याएं भी होती हैं। इन सब वजहों से उनमें डिप्रेशन का खतरा बढ जाता है। यह पहला मौका है जब पीसीए और एडीटी के बीच नकारात्मक संबंधों का हमे पता चला है। एडीटी की मदद लेने वालों में अवसाद का खतरा 23 फीसदी तक अधिक पाया गया है।

यह भी पढ़ें:

सेहत के लिए बेहद गुणकारी होता है कच्चा पपीता, जानिए इसके फायदे

बालों से जुड़ी सभी समस्याओं का रामबाण इलाज है आलू का रस, जानिए लगाने का तरीका