चावल असली है या नकली होने की ऐसे करें पहचान

स्वास्थ्य ही असली पूंजी है यह बात आप कई बार सुन चुके होंगे पर स्वस्थ रहने के लिए अच्छा खानपान भी बहुत आवश्यक है लेकिन कुछ लोग अपना फायदा करने क चक्कर में दूसरों की थालियों में ज़हर परोस रहे है

अगर हम थोड़ी से सावधानी रखे तो इन सब खतरों से बच सकते है। चीन के द्वारा भारत में भेजे चावल प्लास्टिक से बने हुए है आपको हमारी बात का विशवास नहीं हो रहा होगा लेकिन यह बात बिलकुल सही है

ये चीन में प्लास्टिक से बनाये जाते है और सस्ते दामों पर दूसरे देशो को भेज दिए जाते है और सस्ते होने के चक्कर में हम इस प्रकार के चावल को खरीद लेते है अगर आप के घर में जो चावल है वो असली है या नकली इसकी पहचान के कुछ तरीके हम आप को बता रहे है।

नकली चावल असली चावल के मुकाबले ज्यादा साफ़ होता है उसमे चावल की भूसी का एक भी टुकड़ा आप को नहीं मिलेगा।

प्लास्टिक चावल असली चावल के मुकाबले अधिक चमकदार होगा।

प्लास्टिक चावल के दानों का साइज बिलकुल एक जैसा होगा लेकिन असली चावल में ऐसा नहीं होता है।

प्लास्टिक के चावल को पकने पर वह ठीक से पकता नहीं है।

प्लास्टिक चावल को पकने पर हलकी प्लास्टिक की खूशबू आती है।

पके हुए चावल को आप जान मेस करते है तो वह एक बोल की शेप ले लेता है और बाउंस भी करता है।

प्लास्टिक चावल से कई प्रकार की बीमारियां भी हो जाती जैसे श्वास हार्ट अटैक आदि।

यह भी पढ़ें:

औषधीय गुणों से भरपूर होता है काला नमक, जानिए इसके बड़े फायदे

जानिए, गुलाब जल के औषधीय गुणों के बारे में