अमेरिकी कोर्ट में अंग्रेजी नहीं बोल पाए भारत के IELTS धुरंधर, जांच हुई शुरू

गुजरात में पुलिस ने 6 लोगों के खिलाफ जांच शुरू की है। अब जांच की वजह जानकर आप हैरान रह जाएंगे। गुजरात के ही ये 6 लोग अमेरिका में कोर्ट के सामने अंग्रेजी में बात नहीं कर सके। इन लोगों को मार्च में ही कनाडा से अमेरिका की सीमा में प्रवेश करने के चलते गिरफ्तार किया था। खबर है कि अमेरिकी अधिकारियों के अनुरोध पर जांच शुरू की गई है।

हैरानी की बात है कि अमेरिकी कोर्ट में अंग्रेजी में बात करने में असफल रहे ये लोग IELTS में अच्छा प्रदर्शन कर चुके हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मेहसाणा पुलिस के स्पेशल ऑपरेशन्स ग्रुप (SOG) के इंस्पेक्टर भावेश राठौड़ के हवाले से बताया गया है कि इन 6 लोगों की उम्र 19 से 21 साल के बीच है। इन्हें कनाडा बॉर्डर के पास सैंट रीजिस नदी में बोट से गिरफ्तार किया गया था।

उन्होंने बताया, ‘जब उन्हें अमेरिका में कोर्ट के सामने पेश किया गया, तो वह जज की तरफ से अंग्रेजी में पूछे गए सवालों का जवाब नहीं दे पाए। कोर्ट को हिंदी ट्रांसलेटर की मदद लेनी पड़ी। अदालत इस बात को लेकर हैरान थी कि इन छात्रों ने IELTS में 6.5 से 7 तक अंक हासिल किए थे।’

इंटरनेशनल इंग्लिश लैंग्वेज टेस्ट (IELTS) उन छात्रों को देना होता है, जिनकी भाषा अंग्रेजी नहीं है। कई देशों में अच्छे कॉलेज में दाखिला लेने के लिए छात्रों को बेहतर प्रदर्शन करना जरूरी होता है। इधर, मामला सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर भी चर्चाएं शुरू हो गई हैं।

पुलिस का कहना है कि 6 युवाओं ने 25 सितंबर को गुजरात के नवसारी शहर में परीक्षा दी थी और इस साल स्टूडेंट वीजा पर कनाडा गए थे। इंस्पेक्टर का कहना है कि परीक्षा हॉल के सभी सीसीटीवी कैमरा बंद थे। खबर है कि परीक्षा करा रहे एजेंसी के मालिकों को भी कोर्ट के सामने पेश होने के लिए कहा गया है।

यह पढ़े: उपराष्ट्रपति ने दिखाई ‘हर घर तिरंगा’ बाइक रैली को हरी झंडी, राहुल गांधी ने भी बदली DP