अगर आपके लिए भी मुसीबत बन जाए टैटू तो आज़माएं ये आसान टिप्स

टैटू बनवाने में लगभग दो से तीन घंटे लगते हैं, लेकिन इन्हें हटाने में छह महीने से लेकर एक साल तक का समय लग जाता है। कई बार लेजर तकनीक के बाद भी पूरी तरह से टैटू खत्म नहीं होता। टैटू हटवाने के लिए भी लोग बहुत तेजी से अस्पताल पहुंच रहे हैं।

टैटू हटवाने वालों में सबसे ज्यादा वे लोग हैं, जिन्हें टैटू की वजह से मनचाहा जॉब भी नहीं मिल रहा। दूसरे वे लोग हैं, जो पहले रिलेशनशिप की वजह से नाम गुदवा लेते हैं, लेकिन रिलेशन खत्म होने के बाद उन्हें शादी में बहुत दिक्कत आती है।

टैटू बनाने में कई केमिकल्स का इस्तेमाल होता है। इसकी स्याही को शीशा, तांबा और मैंगनीज जैसे धातुओं को मिलाकर ही तैयार किया जाता है। लाल स्याही में पारा होता है। इन्हीं धातुओं के कारण टैटू परमानेंट भी हो जाता है। टैटू हटाने या उसे बदलने के लिए लेजर से टैटू हटाना बाकी विकल्प से बहुत बेहतर साबित हो रहा है।

स्किन लेजर सेंटर के डर्मेटोलॉजिस्ट डॉक्टर का कहना है कि आमतौर पर कई रंगों के टैटू के मुकाबले काले या दूसरे गहरे रंगों के टैटू का हटाना बहुत आसान होता है। ग्रीन या ब्लैक टैटू आसानी से हटाया जा सकता है, लेकिन येलो और वाइट बहुत मुश्किल से हटता है।

आपके नाखुन में छिपा है आपकी हैल्थ का राज, जानिए कैसे