अगर आप इमोशनल ईटिंग के हैं शिकार, तो ऐसे लगाएं लगाम

खाना हर व्यक्ति की एक मूलभूत आवश्यकता है, लेकिन कुछ लोग ऐसे होते हैं जो खाने को अपनी कमजोरी बना लेते हैं। ऐसे लोग भोजन में अपनी खुशी तलाशने लगते हैं। ऐसे लोग वास्तव में इमोशनल ईटिंग के शिकार होते हैं। अगर आपका नाम भी ऐसे लोगों की लिस्ट में शुमार है तो आप इन तरीकों से अपनी समस्या से निजात पा सकते हैं-

  • दिमाग को व्यस्थ रखने से इमोशन्स से बाहर निकलने में मदद मिलती है। यह आपको उस पल में रहने में मदद करता है और आपको अतीत की यादों से जाने से रोकता है जिसकी वजह से आप खाने लगते हैं।
  • इमोशनल ईटिंग की समस्या के लिए खुद को अनदेखा ना करें। अगर आपको बुरा महसूस हो रहा है तो कोी बात नहीं अपने नकारात्मक विचारों से मुंह ना मोड़ें बल्कि उनका सामना करें और ज्यादा खाने से खुद को रोकें।
  • खाने के बारे में लिखने से इमोशनल ईटिंग की समस्या को दूर करने के लिए फायदेमंद होती है। लिखते समय अपनी भूख के बारे में लिखें साथ ही यह भी लिखें आप उस दौरान क्या महसूस कर रहे हैं। इन नोट्स को हमेशा अपने साथ रखें और जब भी कुछ खाने की इच्छा हो तो तेज बीट वाले गाने सुनें।

ज्यादा पनीर का सेवन सेहत के लिए हैं हानिकारक, जानिए कैसे!