अगर आप भी है ‘एलर्जी की समस्या’ से परेशान तो इन बातों का रखें खास ध्यान

बदलते मौसम के साथ एलर्जी की समस्या बहुत अधिक देखि जाती है। अधिकतर लोगो में एलर्जी होने की शारीरिक प्रवृत्ति होती है। उन लोगों का इम्यून सिस्टम कुछ खास खाद्य पदार्थों या बाह्य पदार्थों को कतई स्वीकार नहीं करता और जीभ, गले के भीतरी हिस्सा, श्वासनली आदि में सूजन पूरी तरह आने लगती है। इनमें बाहर से खुजली या रैशेज नहीं भी हो सकते हैं। कभी-कभी यह स्थिति अत्यधिक घातक भी हो सकती है। तो आइये जानते है एलर्जी के बारे में….

एलर्जी किससे होती है? – सामान्यतः सोयाबीन या उसके प्रोडक्ट, गेंहू से बने खाद्य, बादाम, तरह-तरह के उत्पादों से तैयार फास्ट फूड, समुद्री मछली, केवड़ा या अंडा जैसे कई सारे खाद्य पदार्थों से फूड एलर्जी हो जाती है। किसी दवा के साइड-इफेक्ट, रसायन, स्प्रे, एक्सरे या स्कैन से पहले शरीर में प्रविष्ट कराए जाने वाले कंट्रास्ट, जहरीले कीड़े के काटने आदि से भी ये गंभीर इंटरनल एलर्जी हो सकती है।

एलर्जी के लक्षण क्या हैं? – अगर एलर्जी हल्की-फुल्की है तो आंख-नाक से पानी, खुजली, उल्टी, पेट व सिर दर्द जैसे बहुत ही साधारण एलर्जी के लक्षण दिखेंगे। यदि होंठ, जीभ या मुंह के भीतरी हिस्से में खारिश महसूस हो, तो पूरी तरह अलर्ट हो जाएं क्योंकि इसके प्रभाव से गले और मुंह के भीतरी हिस्से में गंभीर सूजन आ जाती है। ग्रास या घूंट निकलने में बहुत तकलीफ होती है। यह स्थिति ‘ऐनाफाइलेक्सिस’ कहलाती है। बीपी बहुत कम हो जाता है, पल्स तेज और सांस की तकलीफ अत्यधिक बढ ज़ाती है।

एलर्जी में ये सावधानी बरतें…

अगर छोटे बच्चे असामान्य व्यवहार करें तो उन्हें डॉक्टर को दिखाएं ।
इलाज से पहले डॉक्टर को यह बता दे की आपको किसी दवा से एलर्जी तो नहीं।