Fatty Liver से हैं परेशान तो इस्तेमाल करें दालचीनी, रसोई की ये चीजें भी आ सकती हैं काम

आज की अनहेल्दी लाइफस्टाइल के कारण लोग कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित हो जाते हैं। इन्हीं में से एक है फैटी लिवर की परेशानी। इस बीमारी में लिवर सेल्स में अनवांटेड फैट की मात्रा बढ़ जाती है जिससे लिवर में सूजन आ जाती है। मोटापा, डायबिटीज, उच्च रक्तचाप और हाई कोलेस्ट्रॉल के मरीजों में फैटी लिवर का खतरा अधिक रहता है। मोटापा, डायबिटीज, उच्च रक्तचाप और हाई कोलेस्ट्रॉल के मरीजों में फैटी लिवर का खतरा अधिक रहता है। ऐसे में लिवर को हेल्दी और रोगों से दूर रखने में कई घरेलू उपाय काम आ सकते हैं जिनमें से एक है दालचीनी का इस्तेमाल-

दालचीनी कैसे है फायदेमंद: फैटी लिवर के मरीजों के लिए दालचीनी का इस्तेमाल फायदेमंद माना जाता है। इसमें एंटी-इंफ्लामेट्री गुण होते हैं जो इस बीमारी के कारण लिवर में आई सूजन को कम करने में मददगार है। इसके सेवन के लिए एक बर्तन में एक गिलास पानी और दालचीनी की 2 स्टिक डालें और उसे उबाल लें। 2 से 3 मिनट के बाद पानी को छान लें और सेवन करें। बेहतर परिणामों के लिए हेल्थ एक्सपर्ट्स रोज सुबह इसके सेवन की सलाह देते हैं।

मात्रा का रखें ध्यान: इम्युनिटी बढ़ाने से लेकर कई बीमारियों को दूर करने में दालचीनी का इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन इसके अधिक इस्तेमाल से स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां भी हो सकती हैं। इसमें मौजूद तत्व कूमरिन अगर शरीर में ज्यादा मात्रा में चला जाए तो हानिकारक साबित हो सकता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञ की मानें तो एक हेल्दी व्यक्ति को दिनभर में 5 मिलीग्राम दालचीनी से ज्यादा नहीं खाना चाहिए। इसके अधिक सेवन से कैंसर, लिवर डैमेज, सांस संबंधी परेशानियां, मुंह में छाले, लो बीपी की समस्या हो सकती है।

इन चीजों का भी कर सकते हैं इस्तेमाल: हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो करेला में एंटी-इंफ्लामेट्री गुण होते हैं जो लिवर में सूजन होने से रोकते हैं। साथ ही, इसके सेवन से फैटी लिवर को बढ़ाने में मददगार लिपिड को कंट्रोल करने में भी आसानी हो जाती है। सौंफ का सेवन भी फैटी लिवर के मरीजों के लिए मददगार हो सकता है। इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट्स लिवर में आसानी से संक्रमण नहीं होने देते और फैटी लिवर की समस्या को कम करने में भी मददगार होते हैं। इसमें मौजूद तत्व लिवर के आसपास जल्दी फैट की मात्रा को बढ़ने नहीं देते जिससे लिवर अधिक समय तक हेल्दी रहता है। सौंफ में डिटॉक्सिफाइंग एलिमेंट्स भी होते हैं जो शरीर में मौजूद टॉक्सिक पदार्थों को बाहर निकालने में मददगार होते हैं।

यह भी पढ़े-

ज्यादा नारियल पानी पीने से भी शरीर में हो सकती है पानी की कमी, ये 4 फूड्स बढ़ाते हैं डिहाइड्रेशन का खतरा