मसूड़ों के दर्द से है परेशान, तो अपनाएं ये आसान टिप्स

क्या आप भी मसूड़ों के दर्द से परेशान है, तो आपको बता दें कि इस बीमारी का घरेलू इलाज संभव है, और इससे मसूड़ों से संबंधित जिंजीविटिस, पेरिओडाँटल बीमारी और गंभीरता से लेने लायक अनेक दूसरी परेशानियों को ठीक करने में मदद मिल सकती है। इन सरल इलाजों की जानकारी आपके मुंह के स्वास्थ्य को सुरक्षित रखने में मददगार साबित होगी। चलिए आपको बताते हैं कुछ टिप्स…

समुद्री नमक का घोल बनाएं: समुद्री नमक की थोड़ी मात्रा को एक कप गुनगुने पानी में मिलाए। इस घोल के एक घूँट को अपने मुंह में 30 सेकंड तक कुल्ला करें और थूक दीजिए।

इस प्रक्रिया को अनेक बार दोहराएं। समुद्री नमक मसूड़े की सूजन को कम करेगा और चोट के उपस्थित संक्रमण को खत्म करेगा। मुंह कुल्ला करने की इस प्रक्रिया को दिन में 2 बार दांत साफ करने की अपनी आदत के साथ जोड़ दीजिए।

टी बैग को खौलते पानी में भिगोकर रख दीजिए, 2-3 मिनट के बाद उसे निकाल लीजिए और इसे उस तापमान तक ठंडा होने दीजिए जिसको आप आसानी से सहन कर सकते हैं।

इस टी बैग को अपने मसूड़े के प्रभावित क्षेत्र के ऊपर करीब 5 मिनट तक दबाए रखें। टी बैग में मौजूद टैनिक ऐसिड मसूड़े के संक्रमण से आराम दिलाने में बहुत प्रभावी होता है।

शहद में प्राकृतिक एंटी-बैक्टीरीअल और एंटीसेप्टिक तत्व हैं, जिसका लाभ आप अपने संक्रमित मसूड़े के उपचार में उठा सकते हैं। दांतो को ब्रश करने के बाद मसूड़ों के प्रभावित भाग पर शहद की थोड़ी मात्रा का लेप लगा दीजिए। शहद में चीनी की मात्रा बहुत ज्यादा होने की वजह से, ध्यान रखते हुए शहद की बस थोड़ी मात्रा का यूज कीजिए और सिर्फ मसूड़ों के ऊपर शहद लगाएं, दांतो पर नहीं।

क्रैनबेरी जूस बैक्टीरिया को दांतो में चिपकने से रोकता है, इसलिए लगभग 120 मिली मिठास रहित क्रैनबेरी जूस प्रतिदिन पीना चाहिए।

एक नींबू के रस में थोड़ा नमक मिला कर पेस्ट बना लीजिए। इसे अच्छे से मिलाएं और अपने दांतो पर लगाएं। कुछ मिनट छोड़ने के बाद गुनगुने पानी से कुल्ला कर लीजिए।

मसूड़ों के रोगों के इलाज में नींबू हर तरह से लाभप्रद है। सबसे पहले, नींबू एंटी-इन्फ्लामेटरी है जो संक्रमित मसूड़े के इलाज में मदद करता है। यही नहीं, इसमें विटामिन सी भी है, जो आपके मसूड़ों के संक्रमण को खत्म करने में मदद करता है।

सेहत के लिए बहुत गुणकारी है आंवले का जूस, जानिए इसके फायदे