अगर आप जान जायेंगे केले खाने के नुकसान तो उसे कभी हाथ नहीं लगाएंगे

हालांकि केले के लाभों की सूची बहुत ही ज्यादा लंबी है। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि इसके बहुत सारे साइड इफेक्‍ट भी है। आपको ताज्‍जुब हो रहा हैं न? तो चलिये हैरान होने के लिए पूरी तरह तैयार हो जाइए।

केला विटामिन, प्रोटीन व अन्य पोषक तत्वों से भरपूर फल है। इसमें थाइमिन, रिबोफ्लेविन, नियासिन और फॉलिक एसिड के रूप में विटामिन ‘ए’ और विटामिन ‘बी’ भी बहुत पर्याप्त मात्रा में मौजूद होता है।

इसके अलावा केला ऊर्जा का सबसे अच्छा स्रोत भी माना जाता है। केला मैग्नेशियम से भरपूर होने के कारण बहुत ही जल्दी पच जाता है और यह मेटाबॉलिज्म को भी बहुत दुरुस्त रखता है। हालांकि केले के लाभों की सूची बहुत ही ज्यादा लंबी है। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि इसके अनेक साइड इफेक्‍ट भी मौजूद है। आपको ताज्‍जुब हो रहा हैं न? तो चलिये हैरान होने के लिए पूरी तरह तैयार हो जाइए।

  • वजन बढ़ना

हालांकि केले में आपके पसंदीदा चिप्‍स के एक पैकेट या कुकीज के एक बॉक्‍स की तुलना में बहुत कम कैलोरी होती है। लेकिन फिर भी एक केले में आमतौर पर 100 से 120 कैलोरी होती है। जिससे आपका वजन बहुत जल्द ही बढ़ने लगता है।

  • शुगर की अधिक मात्रा

उम्र के तीसवे दशक के बाद, चीनी लगभग हर व्‍यक्ति के स्‍वास्‍थ्‍य को नुकसान पहुंचाती है। हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के अनुसार, केले को मध्य स्तर के ग्लाइसेमिक भोजन के रूप में वर्गीकृत किया गया है। इसका मतलब है कि इसमें ग्लाइसेमिक सूचकांक रक्त शर्करा के स्तर को बदलने के लिए काफी अधिक होता है। इसके अलावा, इसी तरह के शुगर स्‍तर के साथ केले में फाइबर की मौजूदगी के कारण अन्‍य फलों की तुलना में इसे पचाने में अधिक समय लगता है।

  • हाइपरकेलेमिया (Hyperkalemia) की संभावना

हाइपरकेलेमिया एक गंभीर स्‍वास्‍थ्‍य स्थिति है, जो बहुत अधिक पोटेशियम के सेवन से होती है। इसमें पल्‍स अनियमित, मतली और दिल की धड़कन की दर में देरी जैसे लक्षण देखने को मिलते है। इस तरह से केले के अधिक सेवन से आप इस समस्‍या से ग्रस्‍त हो सकते हैं क्‍योंकि केला पोटेशियम का समृद्ध स्रोत है। और शायद ही केले तुलना में किसी अन्‍य खाद्य पदार्थ में इतना पोटेशियम हो।

  • दांतों का गिरना

चीनी को दांतों के टूटने का सबसे आम कारण माना जाता है। यह चॉकलेट या मि‍ठाई के अधिक सेवन का परिणाम हो सकता है। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि केला भी दांत के टूटने के लिए जिम्‍मेदार होता है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि स्‍टार्च मुंह में धीरे-धीरे घुलता है जबकि शक्‍कर तेजी से घुल जाता है। इसके अलावा, केले जैसे खाद्य पदार्थों के सेवन से कण दांतों के बीच में फसकर बैक्‍टीरिया को आकर्षित करके अधिक कैविटी का कारण बनते है।

  • पेट के आस-पास फैट

यह बात आपको अविश्‍वसनीय लग सकती हैं, लेकिन केला पेट की चर्बी को बढ़ाने में योगदान देता है। यह बात तो हम जानते हैं कि केला लगभग शून्य फैट के साथ बहुत सारे कार्बोहाइड्रेट प्रदान करता हैं। यह अकेला मोटापे का कारण नहीं होता, बल्कि कार्बोहाइड्रेट के साथ बहुत अधिक कैलोरी भी होती है। और यह तो आप जानते ही हैं कि अधिक कैलोरी का क्‍या मतलब होता है?

यह भी पढ़ें:

इस मानसून में जरूर खाएं इम्यूनिटी बढ़ाने वाली ये 3 चीजें

वायरल फीवर को कुछ ही समय में कीजिए छूमंतर, जानिए कैसे?

Loading...