अगर आप सफलता हासिल करना चाहते हैं तो पहले करना होगा ये काम

अगर आप यह मानती हैं कि जीवन में सब कुछ विल्कुल हमारे अनुकूल रहे तो यह बहुत बड़ी भूल है। लक्ष्य या कार्ययोजना में सफल नही होने का अर्थ यह नहीं है कि आपमें उसे करने की क्षमता नहीं है। असफल होने पर गलतियों की समीक्षा अवश्य करें और इस बात को दृढ़विश्वास के साथ हम स्वीकारें कि जो क्षमता सफल लोगों में है, वह आपमें भी है और अगले प्रयास में सफलता विल्कुल आपके सम्मुख होगी।

जारी रखिए कोशिश

हमारे लिए कोई भी मुकाम हासिल करने से पहले जरूरी है हीनभावना से उबरना। अगर आप एक्टिंग के लिए ऑडीशन देने जाती हैं और पहले से ही यह तय कर लेती हैं कि कोई न कोई रोल तो मिल ही सकता है तो मान लीजिए कि लीड रोल किसी दूसरे के खाते में जाएगा। क्योंकि आप तो हीनता की वशीभूत होकर पहले ही तय कर चुकी हैं कि जो मिलेगा वह ही काफी होगा और मेरा लीड रोल में सेलेक्शन विल्कुल नहीं होगा। इसीलिए जो मिलेगा मैं वही स्वीकार कर लूंगी। यह खुद के आत्मविश्वास से बहुत बड़ा धोखा है। हमेशा साहस के साथ लक्ष्य पर निगाह रखिए और आगे बढऩे की कोशिश हमेसा जारी रखिए।

गलतियों को स्वीकारें

हमे कोई भी गलती करने से अवश्य बचना चाहिए। गलती होने पर कभी भी उसे मन में हावी न होने दें, बल्कि इस बात पर फोकस करें कि मैं अब जो करने जा रही हूं, उसमें गलती की कही भी कोई गुंजाइश नहीं रहेगी। गलती को दिमाग में जगह देने से भी हमारे अंदर हीनभावना आती है। इसलिए हमे इसकी पुनरावृत्ति से अवश्य बचना चाहिए।

हमेशा बड़ा सोचिए

हमे अपनी सोच को विस्तार करना चाहिए। आप हमेशा बड़ा सोचिए। आप इस धारणा से उबरिए कि कुछ तो हासिल हो ही जाएगा। जब आप बहुत बड़े सपने को साकार करने की कोशिश करेंगी तो बतौर सफलता कुछ न कुछ ऐसा हाथ तो जरूर लगेगा, जो आपके लिए बहुत होगा। हमारे लिए छोटी सोच हीनभावना को उपजाने का बहुत बड़ा कारण है।