Fatty Liver से पाना चाहते हैं निजात तो डाइट में शामिल करें छाछ, केला और गोभी भी है फायदेमंद- जानिये

गलत खानपान व अनहेल्दी आदतों के कारण होने वाली बीमारियों में से एक है फैटी लिवर की समस्या। इस बीमारी में लिवर के इर्द-गिर्द फैट की मात्रा ज्यादा हो जाती है। बता दें कि लिवर के आसपास आमतौर पर भी फैट जमा रहता है लेकिन जब इसके सेल में बहुत अधिक फैट जमा हो जाता है तो फैटी लिवर की समस्या हो जाती है। इस स्थिति में लिवर में सूजन आने लगती है और वो सिकुड़ने लगता है। थकान, वजन घटना, पेट संबंधी परेशानी और कमजोरी लगना इसके आम लक्षण हैं। डायबिटीज, हाई बीपी व मोटापे के मरीजों को इस बीमारी से पीड़ित होने का खतरा अधिक रहता है। ऐसे में स्वास्थ्य विशेषज्ञ फैटी लिवर की समस्या से बचने हेतु लोगों को अनप्रोसेस्ड फल-सब्जियों के सेवन पर जोर देते हैं। आइए जानते हैं कि फैटी लिवर को ठीक करने में किन खाद्य पदार्थों का सेवन करना फायदेमंद है-

छाछ: गर्मियों के मौसम में छांछ पीना लगभग हर किसी को पसंद होता है। पर क्या आप ये जानते हैं कि छाछ के सेवन से फैटी लिवर की समस्या को कंट्रोल किया जा सकता है। एक शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि छाछ यानि कि मट्ठे में मौजूद तत्व फैटी लिवर को कम करने में मददगार साबित हो सकते हैं। इसमें प्रोटीन की मात्रा भी हाई होती है जो लिवर को हेल्दी रखने में कारगर है। इसके अलावा, छाछ का कूलिंग इफेक्ट पेट और आंत को ठंडक प्रदान करता है जिससे लिवर के साथ पूरा शरीर स्वस्थ रहता है।

केला: आमतौर पर फैटी लिवर की बीमारी से पीड़ित लोगों को खाना पचाने में परेशानी का सामना करना पड़ता है। ऐसे में उनके लिए फलों का सेवन फायदेमंद साबित हो सकता है। फलों में मौजूद पोषक तत्व लिवर को मजबूती प्रदान करते हैं। केला भी इन मरीजों के लाभदायक सिद्ध होगा क्योंकि रोजाना एक केला खाने से पाचन तंत्र मजबूत होता है और शरीर को आवश्यक पोषक तत्व भी मिल जाते हैं। इसमें मौजूद पोटैशियम खाने को पचाने में मदद करते हैं।

गोभी: जर्नल हेपेटोलॉजी में प्रकाशित एक स्टडी के अनुसार पत्ता गोभी और फूलगोभी में कुछ ऐसे नैचुरल एलिमेंट्स पाए जाते हैं जो फैटी लिवर का खतरा कम करने में सहायक होते हैं। रिसर्चर्स के अनुसार गोभी का सेवन इस समस्या से जूझ रहे मरीजों के लिए भी फायदेमंद है। शोधकर्ताओं का कहना है कि डाइट में इन्हें शामिल करने से शरीर में इंडोल का उत्पादन होता है जो इस बीमारी के प्रभाव को कम करने में सहायक है।

यह भी पढ़े-

Uric Acid के मरीज करें गोभी और मशरूम से परहेज, इन फूड आइटम्स से दूरी भी जरूरी