अगर चलाना है दिमाग तेज तो पीएं ये चमत्कारी जूस…

आजकल की दिनचर्या की वजह से हर कोई का दिमाग धीरे-धीरे चलता है, लेकिन इसी वजह से आप पीछे रहे जाते है। दिमाग को तेज करने के लिए हम नए-नए जतन करते रहते हैं, लेकिन फिर भी दिमाग तेज नहीं हो पाता है। अब आपको दिमाग को तेज करने के लिए कुछ टिप्स बता रहे है, जिनका इस्तेमाल करके आप दिमाग तेज कर सकते हैं। दिमाग को तेज चलाने के लिए डार्क चॉकलेट कोको, टमाटर का जूस जैसे ड्रिंक्स का सेवन करना चाहिए। चलिए अब इन उपायों की विस्तार से जानकारी देते है।

टमाटर का जूस: टमाटर में लाइकोपीन होता है। जो आपके शरीर की फ्री रेडिकल से रक्षा करता है तथा ब्रेन के सेल्स को डैमेज होने से भी बचाता है। इसमें पाएं जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट्स भी भरपूर मात्रा होते है। इनमें मेमोरी की क्षमता कई गुना बढ़ जाती है। टमाटर में प्रोटीन, विटामिन तथा फैट पाए जाते हैं। यह भूलने की आदत को दूर करने में मदद करते है। यह दिमाग की सूजन को दूर करता है और दिमाग के स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा है।

बादाम और अखरोट शेक: बादाम और अखरोट में एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा भरपूर पाई जाती है। बादाम तथा  अखरोट को एक गिलास दूध में शहद के साथ मिलाकर पीना चाहिए। यह आपके दिमाग की क्रिया को अच्छी तरह से काम करने में सहायक होता है। बादाम में प्रोटीन की मात्रा पाई जाती है। जो दिमाग की ग्रोथ बढ़ाने में लाभदायक होता है। साथ ही इसके सेवन से स्मरण शक्ति भी बढ़ती है। शहद अवसाद को दूर करके दिमाग को स्वस्थ रखता है।

चुकंदर का जूस: चुकन्दर का जूस पीने से स्मरण शक्ति बढ़ती है। इससे दिमाग की गर्मी और मानसिक कमजोरी दूर होती है। एक अध्ययन के मुताबिक चुंकदर में पाएं जाने वाले फ्रंटल कॉक्र्स की वजह से शरीर में नाइट्रेट की कमी सुचारू रूप से होने लगती है। जिससे हमारे मस्तिष्क में खून का फ्लो भी ठीक से काम करने लगता है। इससे दिमाग मजबूत होने लगता है और न्यूरॉन्स की कमी भी नहीं होती है। यह हमारे दिमाग का वो हिस्सा है जो संज्ञानात्मक कार्य करने के लिए जिम्मेदार माना जाता है। यह बढ़ती उम्र में याददाश्त से संबंधित परेशानियों से भी बचाएं रखता है।

ग्रीन टी: ग्रीन टी दिमाग के सेल्स को टूटने से बचाता है और खराब हो गए सेल्स की मरम्मत करता है जिससे अल्जाइमर और पर्किंसन का खतरा नहीं रहता है। यह बात एक शोध में सामने आई है। वैज्ञानिकों ने पाया कि मस्तिष्क के पीछे तथा आगे के काटक्र्स के बीच बेहतर तारतम्य स्थापित हुआ है। जो यह सिद्ध करता है कि ग्रीन टी मस्तिष्क की सक्रियता को बनाए रखता है और बढ़ाता भी है।

डार्क चॉकलेट कोको: कोको में मौजूद फ्लेवोनल रक्त वाहिकाओं को शांत करके ब्लड प्रेशर को कम करता है, अत: मस्तिष्क को होने वाले हानिकारक प्रभावों को भी घटाता है। रोजाना एक कप हॉट चॉकलेट का सेवन स्ट्रोक और मानसिक खतरे को कम कर सकता है। डार्क चॉकलेट के अलावा चाय में भी भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, और हर रोज एक कप ब्लैक टी के सेवन से प्रतिक्रिया समय में सुधार नजर आने लगेगा।

कई गंभीर रोग दूर होते हैं हल्दी और सरसों तेल के मिश्रण से, जानिए