भारत मजबूर नहीं मजबूत, आंखें निकालकर हाथ में दे सकती है हमारी सरकार- उद्धव ठाकरे

लद्दाख सीमा पर चीन से तनाव को लेकर केंद्र सरकार द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में सभी दलों ने एकजुटता दिखाई है। सभी पार्टियों ने एकसुर में कहा कि पूरा देश एकजुट है और सेना और सरकार के साथ खड़ा है। इस दौरान शिवसेना प्रमुख और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी चीन के खिलाफ जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि भारत मजबूर नहीं मजबूत देश है और हमारी सरकार सरकार विरोधी को आंखें निकालकर हाथ में दे सकती है।

ठाकरे ने कहा कि हम सब एक है और यही सबकी भावना है। हम सभी चीन के खिलाफ प्रधानमंत्री जी, सेना और उनके परिवारों के साथ मजबूती से खड़े है। उन्होंने कहा कि भारत शांति चाहता है लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि हम कमजोर है। चीन का स्वभाव धोखा देने का रहा है। भारत मजबूर नहीं मजबूत है। बैठक में अकाली दल के सुखबीर सिंह बादल ने भी चीन के खिलाफ कहा कि यह समय मुद्दे को हल करने के तरीके पर सवाल उठाने का नहीं है।

बादल ने कहा पूरा देश प्रधानमंत्री के साथ है और हम भी उनके साथ है। दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी के नेता रामगोपाल यादव ने कहा कि देश एक है। पाकिस्तान और चीन की नीयत ठीक नहीं है। भारत चीन का डंपिंग ग्राउंड नहीं रहेगा। चीनी सामानों पर 300 फीसदी ड्यूटी लगा दी जाए। इसके अलावा वाईएसआरसीपी के जगन मोहन रेड्डी ने प्रधानमंत्री को देश की सबसे बड़ी ताकत करार दिया और कहा कि उनकी वजह से भारत की इज्जत दुनिया में बढ़ी है।

यह भी पढ़े: सभी उधोगों में बैन हो चीन की भारत में एंट्री, हम सरकार के साथ मजबूती से खड़े- ममता बनर्जी
यह भी पढ़े: सुशांत को था अंकिता लोखंडे से ब्रेकअप होने का दुख, डॉक्टर ने किये और भी कई खुलासे