भारत द्वारा अवैध रूप से बनाये केंद्र शासित लद्दाख को नहीं देते मान्यता: चीन

भारत-चीन के बीच लद्दाख सीमा पर कई महीनों से लगातार तनाव बना हुआ है। दोनों देशों के बीच विवाद सुलझाने के लिए राजनीतिक और सैन्य स्तर पर कई दौर की बातचीत हो चुकी है। लेकिन चीन के हालिया बयान सुनकर ऐसा नहीं लगता कि वह भारत के साथ सीमा विवाद को सुलझाने की इच्छा रखता हैं। लद्दाख में मिल रही नाकामी से चीन की बौखलाहट साफ नजर आ रही है। आदत से मजबूर चीन ने लद्दाख को लेकर फिर से भड़काऊ बयानबाजी की हैं।

उलेखनीय है कि भारत ने लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश घोषित किया हुआ है। लेकिन चीन ने इसे लेकर बयान जारी कर कहा है कि वह भारत द्वारा अवैध रूप गठित किए गए तथाकथित केंद्र शासित लद्दाख को मान्यता नहीं देता है। यही नहीं वह विवादित सीमा क्षेत्रों में बुनियादी ढांचे के निर्माण का भी विरोध करता है।

चीन के विदेश मंत्रालय ने कहा चीन और भारत के बीच हुई सहमति के अनुसार किसी भी पक्ष को सीमावर्ती क्षेत्रों में कोई भी ऐसी कार्यवाही नहीं करनी चाहिए, जो स्तिथि को जटिल बना दे। ऐसे में हालात को बेहतर बनाने के दोनों पक्षों के प्रयासों को प्रभावित नहीं किया जाना चाहिए।’

यह भी पढ़े: उपेंद्र कुशवाहा ने तोड़ा यूपीए से नाता, मायावाती संग खड़ा करेंगे तीसरा मोर्चा
यह भी पढ़े: रिया कैसे चुका रही है केस की फीस ? वकील सतीश मानेशिंदे ने किया खुलासा