भारत के विदेश मंत्रालय ने चीन से कहा, ईमानदारी से घटाए सीमा पर तनाव

भारत के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि दोनों देशों के द्वारा पूर्वी लद्दाख में सीमा पर सैन्य बलों को पीछे हटाने की प्रक्रिया अभी पूरी नहीं हुई है। भविष्य में इस प्रक्रिया को पूरी करने के लिए दोनों देशों के वरिष्ठ कमांडर मुलाकात करेंगे। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति कायम रखना द्विपक्षीय संबंधों का आधार है। हम उम्मीद करते है कि चीन द्वारा सैन्य बलों को पीछे हटाने की प्रक्रिया और तनाव कम करने में ईमानदारी अपनाई जायेगी।

इससे पहले बीजिंग ने कहा था कि चीन और भारत के अग्रिम पंक्ति के सैनिकों ने सीमा पर ज्यादातर स्थानों पर पीछे हटने की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। साथ ही जमीनी स्तर पर तनाव कम हो रहा है। यह बात चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने उन खबरों पर लगाम लगाते कही जिनमें कहा जा रहा था कि भारत और चीन के सैनिकों ने पूर्वी लद्दाख में गलवान घाटी, हॉट स्प्रिंग और कोंगका दर्रा इलाकों में पीछे हटने की प्रक्रिया पूरी कर ली है।

बीजिंग का कहना था कि अब सिर्फ पैंगोंग सो इलाके में ही सैनिकों को पीछे हटना है। लेकिन असल स्तिथि इसके उलट है। वांग वेनबिन ने मंदारिन भाषा में यह टिपण्णी की थी जिसे चीनी विदेश मंत्रालय ने अंग्रेजी में अनुवाद करके अपनी वेबसाइट पर अपलोड किया।

यह भी पढ़े: इस तरह से पा सकते है यूरिक एसिड की समस्या में आराम
यह भी पढ़े: बाहुबली डायरेक्टर एसएस राजमौली कोरोना संक्रमित, परिवार समेत होम क्वारंटाइन