आजादी के 75 साल बाद भारत में अब कुल 75,000 स्टार्टअप: पीयूष गोयल

केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने बुधवार को कहा कि भारत अब 75,000 स्टार्टअप वाले देशों की श्रेणी में शामिल हो गया है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि इस स्टार्टअप्स से लगभग 8 लाख नए रोजगार सृजित हुए हैं। यह संख्या भारत के नए विजन की ताकत को दर्शाता है।

भारत का यह नया विजन नए नवाचार और उद्यम की प्रगति को दिखाता है। श्री गोयल ने ट्वीट कर कहा की आजादी के 75वें साल में भारत में कुल 75,000 स्टार्टअप्स हैं और अभी तो यह शुरुआत है।

पिछले 156 दिनों में शुरू हुए 10,000 नए स्टार्टअप

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय ने कहा कि लेटेस्ट 10,000 स्टार्टअप पिछले 156 दिनों में शुरू हुए हैं जबकि शुरुआत के 10,000 स्टार्टअप्स को शुरू होने में कुल 808 दिन लगे थे। मंत्रालय ने यह भी कहा कि 49 प्रतिशत स्टार्टअप् देश के टायर–1 और टायर–2 शहरों में शुरू किए गए हैं।

इन स्टार्ट ऑफ़ में 12 प्रतिशत आईटी क्षेत्रों में, 9 प्रतिशत स्वास्थ्य देखभाल और जीवन विज्ञान के क्षेत्रों में, 7 प्रतिशत शिक्षा क्षेत्र में, 5 प्रतिशत पेशेवर और व्यवसायिक सेवा क्षेत्रों से लेकर कृषि क्षेत्रों में शुरू किया गया। पिछले 6 वर्षों में प्रत्येक साल 110 प्रतिशत से ज्यादा नए रोजगार पैदा हुए हैं।

6 साल बाद भारत स्टार्टअप का तीसरा सबसे बड़ा इकोसिस्टम

डिपार्टमेंट ऑफ प्रमोशन ऑफ इंडस्ट्री एंड इंटर्नल ट्रेड (DPIIT) विभाग ने आजादी के 75वें साल में इन सभी 75,000 स्टार्टअप को मान्यता दी है। मंत्रालय ने 2015 में लाल किले से स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री द्वारा दिए गए भाषण को भी याद कराया।

इस भाषण में प्रधानमंत्री ने घोषणा की थी कि देश में नवाचार और स्टार्टअप को बढ़ावा देने के लिए और एक मजबूत इकोसिस्टम बनाने के लिए कार्य योजना शुरू की जाएगी। अब 6 वर्षों के बाद भारत ने तीसरी सबसे बड़ी स्टार्टअप इकोसिस्टम को तैयार कर लिया है।

यह पढ़े: Swiggy ने तोड़ी बंदिशें, अब एक साथ कई काम कर सकेंगे कर्मचारी