भारत का चीन को झटका, सरकारी तेल कंपनियों ने बंद की चीनी टैंकरों की बुकिंग

भारत सरकार चीन को आर्थिक मोर्चे पर लगातार झटके देने में लगी है। सरकार संचालित तेल कंपनियों ने चीनी कंपनियों द्वारा संचालित या उनके मालिकाना हक वाले तेल टैंकरों की बुकिंग को बंद करने का फैसला किया है, भले ही जहाज किसी तीसरे देश में पंजीकृत हो।

उल्लेखनीय है कि भारत और चीन के बीच लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर सीमा तनाव अभी भी कायम है। जिस वजह से दोनों देशों के व्यापार संबंध खराब हुए है। बता दें तेल कंपनियों के पास पहले से ही अपनी वैश्विक निविदाओं में भारतीय जहाजों के पक्ष में फर्स्ट राइट ऑफ रिफ्यूजल का खंड है। इसके तहत यदि भारतीय टैंकर विदेशी जहाजों की विजयी बोली से समानता रखते है तो उन्हें कॉन्ट्रैक्ट दिया जा सकता है।

भारत सरकार के इस ताजा फैसले से हर वह जहाज कारोबार के मामले में दायरे से बाहर हो जाएगा, जिसका चीन के साथ कोई भी संबंध होगा। सरकार के इस फैसले से तेल कंपनियों के व्यापार पर खास प्रभाव नहीं पडेगा क्योंकि ऐसे जहाजों में चीनी जहाजों की संख्या बहुत कम है।

यह भी पढ़े: देश में 17 लाख के करीब कोरोना रिकवरी संख्या, 24 घंटे में 56383 मरीज हुए ठीक
यह भी पढ़े: स्वतंत्रता दिवस पर सूरजमुखी के विशेष फूलों से सजेगा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मंच