भारत अपने रणनीतिक क्रूड ऑइल भंडार में से करीब 50 लाख बैरल कच्चा तेल अगले 7 दिनों में छोड़ेगा

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार भारत की योजना रणनीतिक भंडार से करीब 50 लाख बैरल कच्चा तेल छोड़ने की है। यह 7 दिनों में रिलीज होगी। कुछ अन्य देशों के भी अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों को ठंडा करने के लिए इस तरह के उपायों के साथ आने की संभावना है।

ज्ञात हो कि विगत वर्ष में जब भारत के साथ पूरे विश्व में कोरोना महामारी के कारण लॉकडाउन लगा हुआ था, तब भी पेट्रोलियम क्रूड ऑइल का उत्पादन हो रहा था। ऐसे में जबकि पूरे विश्व में आवाजाही और खपत बहुत कम हो गई थी, इस कारण से मांग और सप्लाई के नियम के तहत क्रूड ऑइल के मूल्य घटकर 30 डॉलर प्रत‍ि बैरल के लगभग में आ गए थे।

अब जबकि भारत सहित पूरा विश्व इस महामारी से लगभग उबरने के कगार पर है और लगभग सभी देशों की अर्थव्यवस्था पटरी पर लौट आई हैं। ऐसे में क्रूड ऑइल की खपत भी बढ़ी है, और बढ़ा है इसका अथाह मूल्य। अनंतिम आंकड़ों के अनुसार डब्‍ल्‍यूटीआई में क्रूड ऑयल का मूल्य 75.45 डॉलर प्रत‍ि बैरल है।

क्रूड ऑइल के इस बढ़े हुए मूल्य का खामियाजा सरकारों और आम जनता को भी भुगतनी पड़ रही है। इसी लिए भारत अन्य देशों के साथ मिलकर इस बढ़े हुए क्रूड ऑइल के मूल्य में कमी लाने के लिए अपने रणनीतिक क्रूड ऑइल भंडार में से एक अच्छी मात्रा में क्रूड ऑइल को मार्केट में रिलीज करेगा।

दुनिया भर के प्रमुख तेल खपत वाले देशों द्वारा जब यह कदम उठाया जाएगा तब विश्व में क्रूड ऑइल की खरीद कम होगी। इससे तेल उत्पादक देशों को मजबूर होकर क्रूड ऑइल के मूल्य में कमी करनी पड़ेगी। बता दें कि विगत वर्ष में जब अंतरराष्ट्रीय क्रूड ऑइल के मूल्य काफी कम हो गए थे तो भारत ने एक रणनीति के तहत सस्ते में क्रूड ऑइल खरीद कर अच्छा खासा भंडारण कर लिया था।

यह पढ़े: कल के झटके से उबरा शेयर बाजार, सेंसेक्स ने 198 तो निफ्टी ने किया 86 अंकों का बढ़त प्राप्त