भारतीय वायुसेना खरीदेगी नए ‘स्पाइस-2000’ बम, पाकिस्तान झेल चुका है इनकी तबाही

चीन के साथ चल रहे सीमा तनाव को लेकर भारतीय सेना काफी मुस्तैद है। भविष्य में युद्ध की आशंकाओं को देखते हुए भारतीय वायुसेना लगातार अपनी ताकत में बढ़ोतरी करने में जुटी है। इसी कड़ी में अब वायुसेना इमर्जेंसी फाइनैंशल पावर्स का इस्तेमाल करते हुए ‘स्पाइस-2000’ बमों को खरीदने की योजना बना रही है। ये बम आसमान से जमीन पर आकर लक्ष्य को तबाह करने में सक्षम है। भारत इन बमों के और अडवांस वर्जन को खरीदने की तैयारी कर रहा है।

आपको याद दिला दे ‘स्पाइस-2000’ बमों का इस्तेमाल भारतीय वायुसेना के जांबाजों ने पाकिस्तान में एयरस्ट्राइक के दौरान आतंकवादी कैंपों को ध्वस्त करने में किया था। ये बम 70 किलोमीटर दूर तक लक्ष्य को नष्ट करने में सक्षम है। अब इसका नया वर्जन बैंकर्स और मजबूत से मजबूत शेल्टर्स को भी तबाह कर सकता है। बता दे बालाकोट एयरस्ट्राइक में इस्तेमाल किये गए वर्जन मजबूत शेल्टर्स और बील्डिंग में घुसकर तबाही मचाने में सक्षम थे।

बता दे इमर्जेंसी पावर के तहत नरेंद्र मोदी सरकार ने सेनाओं को 500 करोड़ रुपए तक का कोई भी हथियार खरीदने की छूट दी है। तीनों सेनाओं के वाइस चीफ को आवश्यक हथियारों की फास्ट ट्रैक प्रोसिजर के तहत हथियार उपकरण खरीद के लिए 500 करोड़ रुपये दिए गए हैं।

यह भी पढ़े: भारत से उलझने की चीन को मिलेगी कड़ी सजा, सेना के पास मौजूद है US के खतरनाक हथियार
यह भी पढ़े: संयुक्त राष्ट्र में भी मुंह की खायेगा चीन, सीमा विवाद पर ज्यादातर देशों को भारत का समर्थन