LAC पर चीन को उसी की भाषा में जवाब देने को तैयार सेना, नहीं चलेगी चालबाजी

पूर्वी लद्दाख में भारत-चीन के बीच कई स्तरों की बातचीत हुई, लेकिन चीनी सेना टकराव की सभी जगहों से पूरी तरह पीछे नहीं हट रही है। पैंगोंग सो, गोगरा हॉट स्प्रिंग्स जैसे इलाकों में चीनी सेना जमी हुई है। चीनी सेना का यह रवैया देखकर भारतीय सेना ने कुंगरांग नदी के पास तब तक डटे रहने का निर्णय लिया है, जब तक वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर यथास्थिति कायम नहीं हो जाती। दूसरी तरफ भारत कई बार स्पष्ट कर चुका है कि, वह पीछे नहीं हटेगा।

चीनी सेना की लद्दाख और कब्जे वाले अक्साई चिन इलाके में हवाई गतिविधियां भले ही खत्म हो गई है। लेकिन 597 किलोमीटर लंबी एलएसी पर लद्दाख में कुछ जगह पर वे अभी भी मौजूद है और हटने के कोई भी संकेत नहीं दे रहे है।

एक वरिष्ठ सैन्य कमांडर का कहना है कि टकराव वाली जगह पर चीन सीमा के उल्लंघन को घुसपैठ में तब्दील करने का इरादा रखता है। ऐसे में भारतीय सेना को भी उसी की भाषा में जवाब देने का निर्देश दे दिया गया है। फिर चाहे फॉरवर्ड पॉजिशंस पर ही क्यों न बैठना पड़े।’

वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के भाषण में स्पष्ट किया है कि भारत पाकिस्तान की सीमा वाली एलएसी से लेकर चीन की सीमा एलओसी, दोनों पर पूरी तरह से तैयार है। पीएम मोदी का यह भाषण दोनों पड़ोसियों के लिए भी संकेत है कि भारत पीछे नहीं हटेगा।

यह भी पढ़े: सुनील गावस्कर ने बताई धोनी के अचानक से रिटायर होने की वजह, जानिये क्या…
यह भी पढ़े: सड़क 2′ के ट्रेलर को मिले 1 करोड़ Dislike पर KRK ने भट्ट परिवार पर साधा निशाना