Whatsapp की निजता नीति में बदलावों की समीक्षा करेगा भारत का आईटी मंत्रालय

चैट एप्लीकेशन व्हॉट्सएप द्वारा हाल में घोषित निजता नीति में बदलाव का देशभर में विरोध हो रहा हैं। इस विरोध के बाद भारत सरकार इस परिवर्तन की समीक्षा कर रही हैं। सूत्रों के मुताबिक सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय में फेसबुक के स्वामित्व वाले मैसेजिंग मंच के हालिया कदम के प्रभाव पर विचार-विमर्श चल रहा है। गौरतलब हैं कि व्हाट्सएप के हल ही में किये गए बदलावों के तहत व्हॉट्सएप यूजर्स को फेसबुक के अन्य उत्पादों और सेवाओं से जोड़ा गया हैं।

व्हाट्सएप की निजता नीति में बदलावों के बाद कई बड़े कारोबारियों और हस्तियों ने चिंता व्यक्त की हैं। बता दे भारत में व्हॉट्सएप यूजर्स की संख्या 40 करोड़ से अधिक है। ऐसे में व्हाट्सएप के लिए भारत वैश्विक बाजार हैं। ऐसे में नई व्हाट्सएप नीतियों का भारत का आईटी मंत्रालय आकलन करेगा।

भारत में कई उद्योगपतियों- महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा, पेटीएम के संस्थापक विजय शेखर शर्मा और फोनपे के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) समीर निगम ने कहा है कि वे व्हॉट्सएप के प्रतिद्वंद्वी मंचों पर स्थानांतरित होंगे। महिंद्रा ने कहा कि उन्होंने ‘सिग्नल’ को डाउनलोड किया है।

यह भी पढ़े: Samsung का सबसे सस्ता 5G स्मार्टफोन हुआ लॉन्च, जानें कीमत और अन्य फीचर्स
यह भी पढ़े: पद्मश्री सम्मानित चायवाले के निधन पर PM ने जताया शोक, जानें उनसे जुड़ी बड़ी बातें